kannauj-the-votes-of-the-four-panchayat-posts-will-come-together-in-the-entire-district
kannauj-the-votes-of-the-four-panchayat-posts-will-come-together-in-the-entire-district
उत्तर-प्रदेश

कन्नौज : पूरे जिले में एक साथ पड़ेंगे चारों पंचायत पदों के वोट

news

- पोलिंग पार्टी का आकार घटाकर किया चार, महिला कर्मी की अनिवार्यता भी खत्म कन्नौज, 23 फरवरी (हि. स.)। जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव सभी विकास खंडों में एक साथ ही होंगे। ग्राम पंचायत सदस्य, ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य और जिला पंचायत सदस्य के निर्वाचन के लिए चुनाव प्रस्तावित है। कल राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला प्रशासन के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये तैयारियों का जायजा लेते हुए कुछ ऐसा ही संकेत दिया। इसके बाद जिला प्रशासन युद्ध स्तर पर इसकी तैयारियों में जुट गया है। राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार व अपर आयुक्त वेदप्रकाश ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कानपुर मंडल के जिला निर्वाचन अधिकारी, उप जिला निर्वाचन अधिकारी, सहायक जिला निर्वाचन अधिकारी व अन्य अधिकारियों के साथ पंचायत चुनाव को लेकर बिंदुवार चर्चा की। आयुक्त ने कहा कि पूरे जिले में एक ही दिन सभी पदों पर चुनाव कराने की तैयारी शुरू कर दें। शांतिपूर्वक और अच्छे ढंग से चुनाव सम्पन्न कराए जाएं। पंचायत चुनाव के लिए आरक्षण की प्रक्रिया इस समय चल रही है। दो-तीन मार्च को अनंतिम सूची प्रकाशित होने के बाद 13 व 14 मार्च को प्रधान, बीडीसी, वीडीसी, डीडीसी व ब्लॉक प्रमुख के सभी पदों के आरक्षण की अंतिम सूची प्रकाशित हो जाएगी। 14 मार्च तक पदों के आरक्षण की सूचना निदेशालय को भेजी जाएगी। उसके बाद कभी भी चुनाव की अधिसूचना जारी हो सकती है। कहा जा रहा है कि 20-22 मार्च को त्रिस्तरीय पंचायत की अधिसूचना जारी हो जाएगी। दरअसल, इलाहाबाद उच्च न्यायालय के निर्देश पर त्रिस्तरीय पंचायत निर्वाचन हर हाल में 30 अप्रैल तक कराया जाना है किंतु 24 मार्च से माध्यमिक शिक्षा परिषद की परीक्षा प्रारम्भ हो रही है ऐसे में माना जा रहा है कि निर्वाचन आयोग 20 अप्रैल तक निर्वाचन प्रक्रिया पूरी कर लेगा। प्रक्रिया के लिए न्यूनतम 33 दिन का समय चाहिए इसलिए सम्भावना यही है कि अधिसूचना 20 मार्च तक हर हाल में जारी हो जाये। निर्वाचन सीमित समय मे कराने की जल्दबाजी के चलते निर्वाचन आयोग कुछ नियमो में बदलाव करने को भी वाध्य हुआ है। बड़ी जरूरत कार्मिको की होती है इसलिए आयोग ने पोलिंग पार्टी का आकार घटा कर इसे वन प्लस थ्री कर दिया है। पोलिंग पार्टी में एक महिला की अनिवार्यता भी इस बार नही होगी इसे भी समाप्त कर दिया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/संजीव