कन्नौज: आ गयी निर्णायक घड़ी, मतपत्रों की गिनती शुरू

कन्नौज: आ गयी निर्णायक घड़ी, मतपत्रों की गिनती शुरू
kannauj-decisive-clock-arrived-counting-of-ballot-papers-started

- 499 प्रधान, 28 जिला पंचायत सदस्य, 676 क्षेत्र पंचायत और 6327 ग्राम पंचायत सदस्यों का आएगा परिणाम कन्नौज, 02 मई (हि.स.)। कड़ी सुरक्षा के बीच रविवार को जिले के सात स्थानों पर निर्धारित समय से कुछ देर बाद मतगणना का काम शुरू हो गया। पहले 50-50 मतपत्रों के बंडल बनाये जाएंगे। जिले की 499 पंचायतों में गांव की सरकार चुनी जानी है। मतपेटियों में कैद ग्राम प्रधान, बीडीसी और क्षेत्र पंचायत पद प्रत्याशियों के भाग्य खुलना शुरू। जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की निर्याणक घड़ी आ गई है। प्रधान, बीडीसी और क्षेत्र पंचायत सदस्य और जिला पंचायत के लिये हुए चुनावों के नतीजे कुछ देर बाद आने शुरू हो जाएंगे। करीब 11लाख 24 हजार 763 में से 73 फीसदी मतदाता 499 ग्राम पंचायतों के प्रधान चुनेंगे। जिले में दूसरे चरण में हुए मतदान में करीब 73.73 फीसदी वोट पड़े थे। जिले के सभी 8 ब्लॉक मुख्यालयों में से गुगरापुर को छोड़कर मतगणना सुबह आठ बजे से शुरु होगी गुगरापुर और कन्नौज की गिनती मंडी समिति कन्नौज में और बाकी की गिनती उन्ही ब्लॉकों में बनाये गए मतगणना केंद्रों पर हो रही है। गिनती आखिरी वोट की गिनती होने तक जारी रहेगी। इस प्रक्रिया में 2 दिन से तीन दिन भी लग सकते हैं। मतगणना स्थलों के बाहर कर्फ्यू होगा, विजय का जश्न नहीं मनेगा, जुलूस नहीं निकाले जाएंगे। कोविड के बढ़ते संक्रमण और कई मतदान कर्मियों की मौत के बाद मतगणना पर रोक लगाने की मांग हुई थी। पंचायत चुनाव बैलेट पेपर पर हुए हैं, जिसमें प्रत्याशी अपनी पसंद के उम्मीदवार के सामने मुहर लगाता है। मतगणना कर्मी इन बैलेट बॉक्स (मतपेटी) को उम्मीदवारों के एजेंट के सामने सील तोड़कर बैलेट पेपर निकालकर उनके बंडल बनाएंगे। ग्राम पंचायत सदस्य (वीडीसी), ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य (बीडीसी) और जिला पंचायत सदस्य (डीडीसी) पद के लिए अलग-अलग गणना प्रपत्र होंगे। गिनती के दौरान 50-50 मतपत्रों की पैकिंग होगी। सुबह आठ से रात आठ बजे तक पहली शिफ्ट, दूसरी शिफ्ट रात आठ से सुबह आठ बजे तक चलेगी। इसमें मतगणनाकर्मी बदल जाएंगे। उसके बाद फिर पहली शिफ्ट के मतगणनाकर्मियों को तीसरी शिफ्ट में बुलाया जाएगा। जरूरी हुआ तो दूसरी शिफ्ट के कर्मी, चौथे में बुलाए जाएंगे। 'पर्यवेक्षक को मतगणना के दौरान पांच प्रपत्र भरने पड़ेंगे। प्रपत्र 43 में गणना पर्ची रहेगी। प्रपत्र 44 में ग्राम पंचायत सदस्य पद के उम्मीदवारों का ब्यौरा दिया जाएगा। प्रपत्र 45 में प्रधान, प्रपत्र 47 में बीडीसी और 49 में जिला पंचायत सदस्य पद के प्रत्याशियों का लेखा-जोखा रहेगा। प्रपत्रों में प्रत्याशियों का नाम, चुनाव चिह्न, वैध व निरस्त मत, पक्ष में कितने मत और पेटिका में कितने मत आदि का ब्योरा होगा। अगर मतपत्र में वोट वाली सील दो प्रत्याशियों के खाने में लगी है, तो उसे निरस्त कर दिया जाएगा। अगर किसी वोटर ने कोई नाम या नम्बर या हस्ताक्षर किए हैं तो भी मत अवैध करार होगा। मतगणना के लिए दो टेबिलों को एक टेबिल कहा गया है। इसमें टीम एक ग्राम पंचायत सदस्य व प्रधान के मतपत्र गिनेगी, जबकि टीम दो बीडीसी व जिला पंचायत सदस्य पद के मत गिनेंगे।'दो टेबल को एक माना जाएगा। इसमें आठ लोग रहेंगे। चार-चार लोगों की दो टीमें बनाई जाएंगी। हर पर्यवेक्षक तीन-तीन मतगणनाकर्मियों की टीम का नेतृत्व करेंगे। हिन्दुस्थान समाचार/संजीव