Kanchausi Nagar Panchayat formation, two hundred and eight people left Kanpur countryside
Kanchausi Nagar Panchayat formation, two hundred and eight people left Kanpur countryside
उत्तर-प्रदेश

कंचौसी नगर पंचायत गठन का असर, दो सौ आठ लोगों ने छोड़ा कानपुर देहात

news

- दो जिलों की सीमा से जुड़े औरेया में बनाया अपना नया ठिकाना औरैया, 14 जनवरी (हि.स.)। पिछले साल के अंत में कंचौसी नगर का कानपुर देहात जिले का हिस्सा प्रदेश शासन द्वारा नगर पंचायत बनाये जाने की घोषणा से देहात जनपद की बड़ी आबादी का नगर पंचायत से मोह भंग हो गया है। इसके चलते अब यह लोग सीमावर्ती जिला औरेया की ओर पलायन कर गए हैं। यह खुलासा तब हुआ जब हाल ही में तैयार पंचायत चुनाव की नवीन मतदाता सूची सार्वजनिक हुई। इस सूची में चौकाने वाले तथ्य यह सामने आया कि यहां लिस्ट में वह पुरुष, महिला, बच्चे शामिल हैं जो नगर देहात के राजस्व गांव बान खास और रानेपुर रसूलाबाद के हैं और करीब पचास से अधिक परिवारों के सदस्य हैं। यह सभी गांव में पुराने व पुश्तैनी मकान बना कर रह रहे हैं। लेकिन अब यह परिवार औरेया में रहना हितकर मान रहे हैं। जो पढ़े लिखे शिक्षित कामगार, व्यवसाई, नौकरी पेशा, मजदूर, हिन्दू-मुस्लिम दोनों समुदाय के लोग हैं। जिन्होंने नियमानुसार अपनी आईडी कानपुर देहात से समाप्त कर औरेया जिला के गांव नौंगवा मजरा पुरवा महिपाल व ढिकियापुर के नगर कंचौसी की दस्तावेज प्राप्त कर कानपुर देहात से अपना नाता तोड़ लिया है। इन सभी लोगों ने अपना वोट औरेया जिले में बनवाने से पहले कानपुर देहात से अलग हटने का प्रमाण पत्र गांव के बीएलओ को दिखाया है। जब इन लोगों से इतनी बडी संख्या में जिला बदलने का कारण जाना गया तो अधिकतर लोगों को यही कहना है कि देहात कंचौसी नगर पंचायत बनने से उन्हें लाभ कम परेशानी अधिक है। सबसे अहम जिला मुख्यालय, तहसील मुख्यालय माती डेरापुर व जिला अस्पताल माती की दूरी अधिक होना शामिल हैं। इसके साथ ही कोई सीधा आवागमन का साधन न होना है। वहीं, थाना मंगलपुर भी दूर है और सीधे रास्ते पर नहीं है, न जाने और न आने का कोई सुगम साधन है। औरेया जिले में यह कोई असुविधा नहीं है। इन दुश्वारियों को देखते हुए लोग नगर पंचायत के बदले गांव पंचायत में रहना उचित समझते है। इनमें वह परिवार अधिक है जो औरैया जिले के नजदीकी गांव छोड़कर नगर की देहात सीमा में बसे हैं। अब अपने जिला में फिर वापस हो गये हैं। यह सभी कंचौसी का पूरा हिस्सा औरेया में जोड़कर नगर पंचायत बनाने के पक्षधर थे, लेकिन अब यह न होता देख औरेया में वापस आ गये है। इस सम्बंध में बीएलओ पुरवा महिपाल संतोष कठेरिया व ढिकियापुर नौगवां के पर्यवेक्षक पवन दीक्षित, लेखपाल औरेया जिले की कंचौसी सीमा में बढ़े मतदाताओं को स्वीकारते हुए इनकी घर-घर जाकर जांच करा रहे है । हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील-hindusthansamachar.in