ips-amitabh-thakur-spread-fake-video-about-chief-minister-yogi-user-put-class
ips-amitabh-thakur-spread-fake-video-about-chief-minister-yogi-user-put-class
उत्तर-प्रदेश

मुख्यमंत्री योगी को लेकर आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने फैलाई फेक वीडियो, यूजर ने लगाई क्लास

news

रामाशीष यादव लखनऊ, 06 अप्रैल (हि.स.)। लोकहित में जबसे आईपीएस अमिताभ ठाकुर सेवानिवृत किए गए हैं, तब मोदी व योगी सरकार पर आक्रामक हैं। कभी वह रिटायरमेंट विदाई के लिए रूठ गये तो कभी सुरक्षा हटा लिए जाने से नाराज दिखे। फिलहाल वह सोशल मीडिया पर बवाल मचाए हुए हैं। यहां यूजर उन्हें फेक वीडियो फैलाने पर जमकर लताड़ रहे हैं। उनकी जमकर क्लास लगाई है। अपने कार्यशैली से चर्चा में रहने वाले आईपीएस के रिटायर होने पर किसी ने सरकार पर हमला बोला तो किसी ने कहा कि आप इसी लायक हैं। सोमवार को श्री ठाकुर ने एक ऐसा बखेड़ा खड़ा कर दिया, जिसे देखने-सुनने के बाद हर कोई कह रहा है कि आप इसी लायक (जबरिया रिटायर) हो। सोशल मीडिया पर लोग जमकर लताड़ रहे हैं तो वहीं कुछ लोग 'अपशब्द' भी लिख रहे हैं। दरअसल, सोमवार को आईपीएस अमिताभ ने अपनी फेसबुक आईडी से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कथित रूप से एक मीडिया संस्थान को बाइट देते हुए एक वीडियो अपलोड किया। उस वीडियो में योगी कह रहे हैं कि ''देश के वैज्ञानिकों का अभिनंनदन करता हूं। क्या कहते हैं.....(अपशब्द) .....'' वीडियो को शेयर कर मुख्यमंत्री योगी पर व्यंग्य करते हुए श्री अमिताभ ने कैप्शन लिखा है कि ''इस महान व्यक्ति ने मुझे लोकहित में उपयुक्त नहीं माना/पाया।'' श्री ठाकुर कहना चाह रहे हैं कि इस प्रदेश का मुख्यमंत्री वैज्ञानिकों को गाली बक रहा है और दूसरों को लोकहित में उपयुक्त नहीं मानता। जबकि दावा करते हुए वीडियो एक्सपर्ट ने कहा कि वीडियो के साथ पूर्ण रूप से छेड़छाड़ की गई। वहीं, हिन्दुस्थान समाचार ने इस वीडियो की सत्यता पर अध्ययन किया तो पाया गया कि मुख्यमंत्री योगी ने वैक्सीन लगवाने के बाद एक न्यूज एजेंसी को बयान दिया, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताते हुए वैज्ञानिकों का अभिनन्दन किया है। उसी वीडियो के साथ छेड़छाड़ करके मुख्यमंत्री योगी पर आईपीएस गाली देने का आरोप मढ़ रहे हैं। इस फेक फोटोशॉप वीडियो फैलाने के बाद आईपीएस को यूजर जबरदस्त क्लास लगा रहे हैं। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के छात्र अभय प्रताप सिंह ने लिखा कि आप इतने साल आइपीएस रहे और फेक वीडियो नहीं पहचान पर रहे हैं। शिवम त्रिपाठी ने लिखा है कि आपसे ऐसी उम्मीद नहीं थी एडिट की हुई फर्जी वीडियो चला रहे हैं। अब समझ आया कि आपको क्यूं रिटायरमेंट जल्दी दिलवाया गया। दरअसल आपका दिमाग अब सही से काम नहीं कर रहा है। धन्य हैं आप। वहीं, अनुज प्रकाश लिखते हैं कि आपके साथ जो हुआ वह बहुत पहले ही हो जाना चाहिए था। आप एक गैर जिम्मेदार अधिकारी हैं, जो समय-समय पर अनुचित व्यवहार दिखाता है। यूजर आशीष राजपुत ने कहा कि सही और गलत में आप अंतर नहीं कर सकते। इसी वजह से जबरिया रिटायर किये गए। ये एडिट किया वीडियो है। उल्लेखनीय है कि बीते दिनों अमिताभ ठाकुर को समय से पहले रिटायर कर दिया गया। गृह मंत्रालय ने अमिताभ ठाकुर को लोकहित में सेवा में बनाए रखे जाने के उपयुक्त न पाये जाने पर यह फैसला लिया था। इसकी जानकारी स्वयं अमिताभ ठाकुर ने ट्वीट कर दी। अमिताभ के अलावा दो अन्य आईपीएस अधिकारियों को भी रिटायर किया गया। हाल ही में दो-तीन दिन पहले उनकी सुरक्षा भी हटा ली गई है। आजकल सरकार से वे बेहद खफा चल रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/