if-we-had-to-buy-breathing-then-there-was-a-trend-towards-the-trees-600-plants-planted-for-natural-oxygen
if-we-had-to-buy-breathing-then-there-was-a-trend-towards-the-trees-600-plants-planted-for-natural-oxygen
उत्तर-प्रदेश

श्वास खरीदनी पड़ी तो पेड़ों की तरफ बढ़ा रूझान, प्राकृतिक ऑक्सीजन के लिए लगाए 600 पौधे

news

मीरजापुर, 24 मई (हि.स.)। वैश्विक महामारी कोरोना ने हर किसी को तबाह कर दिया है। शासन-प्रशासन की ओर से कोरोना के कहर से बचाने के हर संभव उपाय किए जा रहे हैं। इस बुरे वक्त ने लोगों को प्रकृति के करीब आने को मजबूर कर दिया। जब श्वास खरीदनी पड़ी तो लोगों का रुझान अचानक पेड़ लगाने की ओर गया। कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी देख नगर के एक व्यापारी संजय गुप्ता ने पर्यावरण में सुधार लाने का निर्णय लिया। इसके लिए उन्होंने अपने घर की छत पर करीब 600 पौधों के प्रजातियों का प्लांट लगा डाला। यह प्लांट उनके साथ-साथ पूरे इलाके के लोगों को भरपूर मात्रा में नेचुरल ऑक्सीजन दे रहा है। उनका कहना है कि जो आज की स्थिति है उसको देखते हुए हर इंसान को ऑक्सीजन देने वाले पौधे लगाने चाहिए। नगर के वासलीगंज गफूर खां की गली निवासी संजय गुप्ता पेशे से व्यापारी हैं। उनकी संकट मोचन तिराहे पर जनरल स्टोर की दुकान है। उनके घर के एक सदस्य कोरोना संक्रमण से ग्रसित हुए तो उनको ऑक्सीजन की जरूरत पड़ी। इसके लिए काफी परेशानी झेलनी पड़ी। लोगों को ऑक्सीजन की कमी से जूझते देख अपने घर में ही यह प्लांट लगाने का निर्णय लिया। इसके लिए उन्होंने हैदराबाद, आस्ट्रेलिया, दुबई आदि से विभिन्न प्रजातियों के पौधे मंगवाए, जो सबसे अधिक ऑक्सीजन मुहैया कराते हैं। पौधों की जानकारी कम होने पर उन्होंने शिक्षक अनिल सिंह का सहारा लिया। धीरे-धीरे उन्होंने 2700 क्स्वायर फीट में फूलों व विभिन्न प्रजातियोंं के पेड़ों का एक प्लांट लगा डाला। आज उनको भरपूर मात्रा में ऑक्सीजन मिल रहा है। प्लांट लगाने के पीछे उनका सिर्फ इतना मकसद है कि लोगों को ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन मिल सके। इंटरनेट पर जड़ी-बूटियों की खोज शुरू इंटरनेट पर इम्युनिटी सिस्टम बढ़ाने व वायरस जनित बीमारियों को दूर रखने वाले जड़ी-बूटियों की खोज हो रही है। बेड पर चाय-काफी से दिन की शुरुआत करने वाले लोग काढ़ा पी रहे हैं और वह काढ़ा जिसमें कोई केमिकल नहीं सिर्फ प्राकृतिक चीजें हैं। महंगी जड़ी-बूटियां गरीबों से हुई दूर पैसे वाले तो महंगी जड़ी-बूटियां खरीद रहे हैं, लेकिन गरीब खोजकर ला रहे हैं और सपरिवार काढ़ा पी रहे हैं। गिलोय एक ऐसी बेल है, जो व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर उसे बीमारियों से दूर रखती है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट्स होते हैं जो शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करते हैं। यह खून को साफ करती है, बैक्टीरिया से लड़ती है। लिवर और किडनी की अच्छी देखभाल भी गिलोय के बहुत सारे कामों में से एक है। हिन्दुस्थान समाचार/ गिरजा शंकर/विद्या कान्त