health-problems-increase-due-to-increasing-infection-3290-new-patients-found-in-twenty-four-hours
health-problems-increase-due-to-increasing-infection-3290-new-patients-found-in-twenty-four-hours
उत्तर-प्रदेश

उप्र: बढ़ते संक्रमण से स्वास्थ्य महकमे की मुश्किलें बढ़ी, चौबीस घंटे में मिले 3,290 नये मरीज

news

-सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 16,496 पहुंची लखनऊ, 03 अप्रैल (हि.स.)। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के नये मामलों में वृद्धि का सिलसिला और तेज हो गया है। लोगों की मास्क पहनने और शारीरिक दूरी बनाये रखने को लेकर बरती जा रही लापरवाही सेहत पर भारी पड़ रही है। अब बीते चौबीस घंटे में तीन हजार से ज्यादा नये केस सामने आये हैं। तमाम कोशिशों के बावजूद संक्रमण के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। राजधानी में तो विभिन्न डेडीकेटेड कोविड हॉस्पिटल मरीजों से फुल हो चुके हैं। बेड व वेंटिलेटर के लिए मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। संक्रमण बढ़ने के कारण अब कन्टेनमेंट जोन की संख्या 5,392 हो गई है। अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने शनिवार को बताया कि राज्य में पिछले चौबीस घंटे में कोरोना संक्रमण के 3,290 नये मामले सामने आये हैं। इस वजह से सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 16,496 हो गई है। राज्य में कल एक दिन में कुल 1,66,110 सैम्पल की जांच की गयी, जिसमें से 76,000 आईटीपीसीआर के माध्यम से जांच की गयी। वहीं प्रदेश में अब तक कुल 3,52,36,205 सैम्पल की जांच की गयी है। प्रदेश में कोरोना के कुल सक्रिय मामलों में से 8,933 लोग होम आइसोलेशन और 383 मरीज निजी चिकित्सालयों में भर्ती हैं। शेष मरीज सरकारी अस्पतालों में अपना इलाज करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 6,05,077 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। राज्य में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,89,536 क्षेत्रों में 5,16,834 टीम दिवस के माध्यम से 3,16,80,095 घरों के 15,37,14,820 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अपने हाथ को साबुन-पानी से धोते रहें। जब लोग अपने हाथ को धोते हैं तो कम से कम 30 सेकण्ड तक धोते रहें, जिससे विषाणु नष्ट हो जायें, और जहां भी जाएं लोगों से दो गज की दूरी अवश्य बनाएं। भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। बिना जिला प्रशासन की अनुमति के किसी कार्यक्रम का आयोजन न करें। घर के बड़े-बुजुर्ग का टीकाकरण अवश्य कराएं। हिन्दुस्थान समाचार/संजय