गोरखपुर : खाद कारखाना निर्माण से जुड़ी दो कंस्ट्रक्शन कंपनियों के संचालकों पर मुकदमा

गोरखपुर : खाद कारखाना निर्माण से जुड़ी दो कंस्ट्रक्शन कंपनियों के संचालकों पर मुकदमा
gorakhpur-operators-of-two-construction-companies-involved-in-construction-of-manure-factory-sued

गोरखपुर, 22 मई (हि.स.)। गोरखपुर स्थित फर्टिलाइजर में निर्माण कार्य करवा रही दो कंस्ट्रक्शन कंपनियों के संचालकों समेत 10 पर मुकदमा दर्ज कराने का मामला प्रकाश में आया है। इनमें रायबरेली की डीपीएस कंस्ट्रक्शन व आंध्र प्रदेश की विजय निर्माण कंपनी के संचालक शामिल हैं। चिलुआताल पुलिस ने इन पर रुपये हड़पने व धमकी देने का मामला दर्ज किया है। गिट्टी व मोरंग की आपूर्ति देने वाली फर्म के संचालक की तहरीर पर यह कार्रवाई की गई है। आरोपी संचालकों के निवास स्थान आंध्र प्रदेश, दिल्ली, रायबरेली व गोरखपुर है। कूड़ाघाट निवासी विशंभरनाथ जायसवाल द्वारा दी गई तहरीर मुताबिक वह गिट्टी, बालू की आपूर्ति देते हैं। फर्टिलाइजर में निर्माण कार्य करा रही दिल्ली की फर्म शर्मा एसोसिएट में काम करने वाले राकेश राज सिंघानिया, सुखदेव सिंह मान व रायबरेली की डीपीएस कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड में कार्यरत योगेंद्र ने सिंतबर 2019 में उनसे संपर्क किया था। इस दौरान फोन पर इनकी बात डीपीएस कंस्ट्रक्शन के मालिक दिनेश सिंह व पवन शर्मा से कराई थी। हुई बातचीत में कार्य स्थल पर मोरंग व गिट्टी गिराने का आर्डर मिला। कार्य होने के 45 दिन के भीतर भुगतान का भरोसा दिया गया। फिर, आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम की विजय निर्माण कंपनी के एरिया मैनेजर रघु ने अपने मालिक डा. यश विजय कुमार व मल्लिकार्जुन, एप्पल नायडू, नीरज शर्मा से बातचीत कराई। इन लोगों ने भी मोरंग व गिट्टी गिरवाने पर भुगतान का भरोसा दिया। इसके बाद उन्होंने गिट्टी व मोरंग की आपूर्ति की लेकिन डीपीएस कंस्ट्रक्शन कंपनी के मालिक व उनके सहयोगियों ने 8.87 लाख व विजय निर्माण कंपनी के मालिक ने 9.17 लाख रुपये का भुगतान नहीं किया। रुपये मांगने पर कंपनी के मालिक व कर्मचारी जान से मारने की धमकी देते हैं। बोले थाना प्रभारी प्रभारी निरीक्षक चिलुआताल जेएन शुक्ल ने बताया कि तहरीर के आधार पर मामला दर्ज कर जांच की जा रही है। साक्ष्य के आधार पर कार्रवाई होगी। दोषी बचेंगे नहीं। हिन्दुस्थान समाचार/आमोद