गोरखपुर-बस्‍ती मंडल में पहुंचा टिड्डियों का दल, कुशीनगर से बिहार की ओर रुख
गोरखपुर-बस्‍ती मंडल में पहुंचा टिड्डियों का दल, कुशीनगर से बिहार की ओर रुख
उत्तर-प्रदेश

गोरखपुर-बस्‍ती मंडल में पहुंचा टिड्डियों का दल, कुशीनगर से बिहार की ओर रुख

news

गोरखपुर, 27 जून (हि.स.)। शुक्रवार की देर शाम बस्ती से गोरखपुर पहुंचे टिड्डी दल ने कुशीनगर की सीमा में प्रवेश किया है। इससे किसानों में हाय-तौबा मचा हुआ है। शनिवार की सुबह इस टिड्डी दल को देखकर मण्डल के किसान अपनी फसलों की सुरक्षा को लेकर काफी चिंता में हैं। हालांकि अनेक उपायों को अपनाकर किसानों द्वारा टिड्डी दाल को भगाने का प्रयास किया जा रहा है। कुशीनगर के फाजिलनगर में भी लोग थाली, नगाड़ा, ढोल आदि बजाकर इन्हें भगा रहे हैं। जानकारी के मुताबिक यह टिड्डी दल अब बिहार की ओर कूच कर रहा है। शुक्रवार की शाम को बस्ती मंडल में टिड्डी दल ने हमला कर दिया था। कल शाम को ही संतकबीरनगर होते हुए टिड्डियों का यह दल गोरखपुर पहुंच गया था। इस दौरान किसानों ने तरह-तरह के तरीकों से टिड्डियों को भगाने की कोशिश की। शनिवार सुबह गोरखपुर के बड़हलगंज क्षेत्र और बस्ती में टिड्डियों के दल घुसे थे, लेकिन ये करीब 40 से 50 फीट की ऊंचाई पर थे। ऊपर-ऊपर ही यह दल आगे निकल गया। किसानों ने टिड्डियों के आगे निकल जाने से राहत की सांस ली थी। लेकिन उन्हें डर है कि कहीं ये दल वापस न आ जाएं। बड़हलगंज क्षेत्र के नेतवार पट्टी, दिस्तौलिया, बगहा, पटना, कोलखास, रामनगर, तुर्कवलिया, पौहरिया में बड़ी संख्या में टिड्डी दल देखकर शनिवार की सुबह ग्रामीणों में दहशत छा गई। सुबह लगभग सात बजे ही टिड्डी दल ने इन गांवों के ऊपर अपना डेरा जमा लिया था। काले बादल की तरह छा गए। इससे किसानों में डर फैल गया। टिड्डी दल को खेतों में उतरते देख ग्रामीण सकते में आ गए। ग्रामीणों ने ढोल, नगाड़ा, थाली, पटाखा बजाकर और बिना साइलेंसर ट्रैक्टर स्टार्ट कर टिड्डियों को भगाना शुरू कर दिया। कुछ देर बाद टिड्डी दल राप्ती नदी पार कर देवरिया में दाखिल हो गया। उधर, बस्ती में टिड्डियों का दल सरजू पार अंबेडकरनगर की तरफ से शनिवार 10:30 बजे घुसा। टिड्डी दल दुबौलिया विकासखंड के पायकपुर, डिगरपुर होते हुए बहादुरपुर विकासखंड के गौसपुर की तरफ बढ़ रहे हैं। टिड्डियों के दल के प्रवेश करने से क्षेत्रीय किसानों में दहशत है। जिला कृषि अधिकारी संजेश श्रीवास्तव ने बताया कि करीब अंबेडकरनगर की तरफ से बस्ती में टिड्डियों के प्रवेश करने की सूचना थी। पहले से प्रशासन अलर्ट है और निरोधात्मक कार्रवाई के लिए सभी तैयारियां पूरी कर रखी हैं। क्षेत्रीय किसानों और ग्रामीणों से कहा गया है कि वह झुंड में थाली बजाकर शोर करें। यदि रोड साइड पर हों तो वहां पर डीजे बजाएं। साथ में किसानों से कहा गया है कि वह अपने साइलेंसर को खोलकर ट्रैक्टर को स्टार्ट कर दें। इससे टिड्डी उनके खेतों में नहीं बैठेंगे। वैसे भी दिन में उड़ते रहते हैं और रात के समय खेतों में बैठते हैं। टिड्डियों के आने की सूचना पर सीडीओ सरनीत कौर ब्रोका, एसडीएम सदर श्रीप्रकाश शुक्ला, कृषि रक्षा इकाई और कृषि विभाग से जुड़े तमाम अधिकारी उपकरणों के साथ रसायनों के छिड़काव के लिए मौके पर पहुंचे। देवरिया के रास्ते टिड्डियों का दल कुशीनगर पहुंच गया है। झुण्ड में चल रहे टिड्डी दल देवरिया से चलकर कोइलसवा, पचरुखिया, दुलदुलवा, देवीचक आदि दर्जन गांवों से गुजर रहे हैं। टिड्डियों के जिले में प्रवेश करने पर जिला प्रशासन अलर्ट हो गया है। कुशीनगर से बिहार जाने वाली फोरलेन पर कई गांवों से होकर इनका दल शनिवार को दोपहर में बिहार की ओर निकला। कुशीनगर के डीएम भूपेंद्र एस चौधरी के निर्देश पर कृषि विभाग, गन्ना विभाग, फायर बिग्रेड की टीम के अलावा किसान उन्हें भगाने में जुटे हुए हैं। किसान थाली और डब्बा बजाकर टिड्डी दल को भगाने का प्रयास कर रहे हैं। किसान अपने फसलों को बचाने में जुटे हुए हैं। उधर राजस्व व विकास विभाग के जिम्मेदार लगातार भ्रमण कर उन्हें भगाने के साथ किसानों को जागरूक करने में जुटे हुए हैं। जिला कृषि अधिकारी प्यारेलाल ने बताया कि कुशीनगर के पांच चीनी मिल संचालक छह सौ लीटर, फायर बिग्रेड की टीम व कृषि विभाग पांच सौ लीटर दवा को लेकर टिड्डियों के पीछे लगा हुआ है। हिन्दुस्थान समाचार/आमोद/राजेश-hindusthansamachar.in