मंडी शुल्क के विरोध में गल्ला मंडी में तीन दिवसीय हड़ताल शुरू
मंडी शुल्क के विरोध में गल्ला मंडी में तीन दिवसीय हड़ताल शुरू
उत्तर-प्रदेश

मंडी शुल्क के विरोध में गल्ला मंडी में तीन दिवसीय हड़ताल शुरू

news

कासगंज, 09 जुलाई (हि.स.)। मंडी शुल्क के विरोध में गल्ला व्यापारियों ने गुरुवार को गल्ला मंडी पूरी तरह बंद रखी है। व्यापारियों के मुताबिक तीन दिन गल्ला मंडी में हड़ताल रहेगी। यहां गल्ला मंडी कारोबार पूरी तरह प्रभावित हुआ है। क्षेत्र से आनेवाले किसान अपने गल्ले को लेकर वापस गंतव्य को रवाना हो गए। गुरुवार को यहां बाहर से आने वालेेे गल्ला व्यापारी भी नहीं पहुंचे हैं। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल मिश्रा गुट के आव्हान पर जिला अध्यक्ष सुरेश चंद वार्ष्णेय के निर्देशन में आयोजित मंडी की हड़ताल के दौरान मंडी परिसर में मंडी कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन किया गया। यहां एकत्रित व्यापारियों में व्यापार मंडल के प्रांतीय पदाधिकारी अनिल कुमार माहेश्वरी ने कहा कि प्रदेश की सरकार मंडी शुल्क को लेकर दोहरी नीति तैयार कर रही है। जिससे किसान एवं व्यापारी दोनों को काफी नुकसान होगा। वरिष्ठ गल्ला व्यापारी हृदेश वार्ष्णेय ने कहा के मंडी में काम करने वाले लाखों आरतियां मजदूर, मुनीम एवं अन्य लोग पूरी तरह बेरोजगार हो जाएंगे। इनके परिवार रोजी रोटी खो देंगे। गल्ला व्यवसाई सुधीर सारडा ने कहा के मंडी से जुड़े लोग भुखमरी के कगार पर आ जाएंगे। ऐसी स्थिति में प्रदेश सरकार को अपनी नीति बदलनी चाहिए। संगठन के नगर अध्यक्ष राजेंद्र गुप्ता ने प्रदेश सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि नीति वापस न ली गई और ऐसा ना हुआ ऐसा नहीं हुआ तो यह 3 दिन की सांकेतिक हड़ताल आगामी दिनों में आंदोलन का रूप धारण कर लेगी। गल्ला व्यापारी संदीप मालूम ने कहा कि सरकार ने गल्ला व्यापारियों की न सुनी तो यह आंदोलन लखनऊ की सड़कों पर होगा। इस दौरान व्यापार मंडल के जिला चेयरमैन जितेंद्र वार्ष्णेय, गोपाल सोलंकी, मनोज वर्मा, प्रदीप गुप्ता, राकेश गुप्ता, किशोर अग्रवाल, कमल माहेश्वरी, कमल लाहोटी, मुकेश सोलंकी, मनपाल सिंह, पुष्पेंद्र सिंह, सहित तमाम व्यापारी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/पुष्पेंद्र/दीपक-hindusthansamachar.in