former-chief-minister-akhilesh-yadav-attended-the-rate-of-sant-ravidas
former-chief-minister-akhilesh-yadav-attended-the-rate-of-sant-ravidas
उत्तर-प्रदेश

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने संत रविदास के दर पर हाजिरी लगाई

news

बोले-हमारे देश की गंगा जमुनी तहज़ीब की समाज में सबसे अधिक जरूरत वाराणसी, 27 फरवरी (हि.स.)। तीन दिवसीय पूंर्वांचल दौरे के आखिरी दिन शनिवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव संत रविदास के दर पर पहुंचे। संत रविदास की 644वीं जयंती पर जन्मस्थान सीरगोवर्धनपुर स्थित गुरू दरबार में आये पूर्व मुख्यमंत्री ने संत की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धाभाव से सिर झुकाकर नमन किया और आर्शिवाद मांगा। दर्शन-पूजन के बाद अखिलेश यादव ने मंदिर के वीवीआइपी कक्ष में डेरा सच्चा बल्लखंड जालंधर के गद्दीनसीन संत निरंजन दास का आर्शिवाद लिया और उनसे देर तक बातचीत की। संत ने सपा प्रमुख को आर्शिवाद देने के साथ प्रसाद भी दिया और उनसे लंगर में प्रसाद पाने का निमंत्रण भी दिया। यहां से पूर्व मुख्यमंत्री मुख्य सत्संग पंडाल में आये और मौजूद हजारों रैदासी भक्तों का हाथ जोड़ कर अभिवादन किया। इस दौरान वहां भारी भीड़ के बीच कार्यकर्ताओं को नारेबाजी करते देख पूर्व मुख्यमंत्री ने रैदासी संतों का अभिवादन किया और वहां से बाहर निकल आये। मंदिर के बाहर उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में संत रविदास जयंती की पूरे प्रदेश को बधाई दी। उन्होंने कहा कि संत रविदास का पूरा जीवन त्याग और लोगों को जोड़ने में रहा। उनका दर्शन समाज में एक होकर रहने का है। संत जीवन भर समाज में व्याप्त बुराइयों से लड़ते रहे। उनके बताये रास्ते और सिद्धांत को अपना कर ही आज समाज और देश आगे बढ़ सकता है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे देश की जो गंगा जमुनी तहज़ीब है, इसकी हमारे समाज में आज सबसे अधिक ज़रुरत है। गंगा जमुनी तहज़ीब में हम एक दूसरे का सम्मान करते हैं, हम एक दुसरे के त्योहारों में शामिल होते हैं , हम एक दूसरों की खुशियों को बांटते हैं। सीरगोवर्धनपुर में सपा मुखिया के आने के पहले ही बढ़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ता उनके स्वागत में डट गये। संत रविदास के मंदिर के समीप जैसे ही मुख्यमंत्री का काफिला पहुंचा उत्साहित कार्यकर्ता गगनभेदी नारेबाजी करने लगे। संत रविदास मंदिर में दर्शन पूजन के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री के साथ पूर्व मंत्री सुरेंद्र पटेल, पूर्व मंत्री ओमप्रकाश सिंह, पूर्व मंत्री मनोज राय धूपचंडी, पूर्व मंत्री केपी यादव, जिलाध्यक्ष सुजीत यादव उर्फ लक्कड़, शालिनी यादव, राजेश यादव, संतोष यादव, सिद्धांत जायसवाल आदि भी मौजूद रहे। पूर्व मुख्यमंत्री मिर्जापुर का दौरा कर वाराणसी पहुंचे थे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक