first-hospital-for-differently-abled-in-atal-government-opened-in-pilibhit-maneka-gandhi
first-hospital-for-differently-abled-in-atal-government-opened-in-pilibhit-maneka-gandhi
उत्तर-प्रदेश

अटल सरकार में दिव्यांगों के लिए पहला अस्पताल पीलीभीत में खोला: मेनका गांधी

news

-पंचायत चुनाव की जारी आरक्षण सूची अनियमितता होने पर होगी निरस्त -30 करोड़ की लागत से निर्मित हो रही नमामि गंगे परियोजना नम्बर तक होगी पूरी सुलतानपुर, 05 मार्च (हि.स.)। पूर्व केन्द्रीय मंत्री व सांसद मेनका संजय गांधी ने शुक्रवार को अपने संसदीय क्षेत्र में दिव्यांगों व निःशक्तों को उपकरण वितरण के दौरान कहा कि अटल जी की सरकार में केन्द्रीय सामाजिक व न्याय मंत्री के रूप में उन्होंने प्रदेश में दिव्यांगों के लिए पहला अस्पताल पीलीभीत में खोला था। संसदीय क्षेत्र के दौरे के दूसरे दिन जिला पंचायत परिसर में आयोजित दिव्यांगों व निःशक्तों को सहायक उपकरण वितरण कार्यक्रम में सम्बोधित करते हुए उन्होंने यह बातें कही। सांसद ने कहा कि इसी विभाग से बाद में पांच अलग-अलग विभाग बनाए गए थे। दिव्यांगों के लिए कृत्रिम अंग बनाने वाली बंद पड़ी भारत सरकार की संस्था एलिम्को कानपुर का जीर्णोद्धार करा कर के वहां से पूरे देश भर में दिव्यांगों के लिए उपकरण की आपूर्ति की जा रही है। श्रीमती गांधी ने कहा कि मैंने अपने पूरे राजनीतिक जीवन में सबसे अधिक मदद दिव्यांगों को लेकर की है। उन्होंने कहा कि आज से शुरू किया गया दिव्यांगों को कृतिम अंग व उपकरणों का वितरण विभिन्न ब्लॉकों में अगले एक सप्ताह तक चलता रहेगा। उन्होंने कहा कि दूषित जल के शुद्धिकरण के लिए 30 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित हो रही नमामि गंगे परियोजना नवम्बर माह तक पूरी हो जाएगी। पंचायत चुनाव को लेकर जारी आरक्षण सूची में अनियमितता के सवाल पर उन्होंने कहा कि स्थानीय राज्य निर्वाचन आयोग से उन्होंने इसकी शिकायत की है। जारी आरक्षण सूची का जिला प्रशासन के अधिकारी अवलोकन कर रहे हैं। जांच के दौरान यदि नियम विरुद्ध सूची जारी की गई होगी तो निरस्त करके नई सूची जारी की जाएगी। श्रीमती गांधी ने सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय वयों श्री योजना एवं एडिप योजना के अंतर्गत सुल्तानपुर में निःशुल्क सहायक उपकरण का वितरण किया गया। इनमें 14 ब्लॉक परिसरों में 2,536 लाभार्थी चयनित हुए थे। इस प्रकार लाभार्थियों को लगभग 1.84 करोड़ की लागत से 5,792 सहायक यंत्र एवं उपकरण वितरित किए गए। कृत्रिम अंगों व उपकरणों में प्रमुख रूप से फोल्डिंग व्हीलचेयर, बैसाखी, वाकिंग स्टिक, श्रवण यंत्र, ट्राइपॉड, टेट्रापोड़, फोल्डिंग वाकर, नजर का चश्मा, करतात ट्राई साइकिल, सीपी चेयर, वाकिंग स्ट्रीट, एल्केन रोली, टीडीएल किट स्मार्ट के मानसिक दिव्यांग हेतु एमएसआईडी किट कृत्रिम अंग एवं कैलिपर्स फोल्डिंग व्हीलचेयर बैसाखी ब्रेल किट, श्रवण यंत्र सेल, फोन और स्मार्टफोन का भी वितरण किया गया। इसके पूर्व श्रीमती गांधी ने पल्हीपुर में नमामि गंगे योजना से प्यूरीफाइड जल आपूर्ति की निर्मित हो रही परियोजना का निरीक्षण भी किया। इसी गांव में सामुदायिक शौचालय का शुभारंभ भी किया। हिन्दुस्थान समाचार/दयाशंकर/संजय