fatehpur-retired-teachers-honored-on-the-birth-anniversary-of-the-founder-of-the-school
fatehpur-retired-teachers-honored-on-the-birth-anniversary-of-the-founder-of-the-school
उत्तर-प्रदेश

फतेहपुर : विद्यालय के संस्थापक की जयंती पर सेवानिवृत्त अध्यापकों को किया गया सम्मानित

news

फतेहपुर, 23 फरवरी (हि.स.)। जिले में मंगलवार को चौधरी शिवसहांय सिंह इण्टर कालेज के संस्थापक की जयंती समारोह मे विघालय के भूतपूर्व प्रधानाचार्य, अध्यपकों कर्मचारियों के स्वागत किया गया। समारोह मे सम्मानित करते करते हुए विद्यालय के संस्थापक के जीवनी पर प्रकाश डालते हुए रंगारंग सास्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति की गयी। प्रबन्धक हनुमंत सिंह ने विद्यालय के संस्थापक स्व. शिवसहाय सिंह की जयंती पर उनके योगदान को याद करते हुए बताया कि गुरगौला स्थित कालेज की स्थापना सन् 1937 में की गयी थी। जिले का सबसे प्राचीन व एकमात्र निजी क्षेत्र का विद्यालय था जो स्वतंत्रता के पूर्व स्थापित किया गया था। उन्होंने विद्यालय की व्यवस्था के लिए दो सौ बीघा जमीन खेती योग्य दे थी। उन्होंने सर्वप्रथम जूनियर हाईस्कूल खोला जिसके प्रधानाचार्य महावीर श्रीवास्तव को बनाया था। इसके बाद 1948 मे और हाईस्कूल व इण्टर मीडिएट कालेज की मान्यता 1960 प्राप्त हुई थी। उस समय विद्यालय के प्रधानाचार्य बब्बनराम थे। जिनकी 1970 मे विघालय परिसर मे हत्या कर दी गई। इसके बाद सूर्यप्रकाश सिंह, अमृतलाल सिंह, प्रताप नारायण सिंह, भगवान सिंह, मोतीलाल सिंह, वर्तमान मे बृजेन्द्र सिंह प्रधानाचार्य हुए। उन्होंने बताया कि विद्यालय से सेवा निवृत्त हुए कर्मचारियों को आज फूल मालाओं से स्वागत व सम्मानित किया गया। उन्होंने बताया कि धरम सिंह चौहान, सूर्यभान सिंह, छेदीलाल सिंह, गोबर्धन सिंह, अमर सिंह, बृजभूषण सिंह, हरिमोहन सिंह सहित दो दर्जन से अधिक कर्मचारियों को सम्मानित किया गया। यहां से पढ़े हुए शारदा प्रसाद, केसी सिंह, आईएस के एम सिंह, प्रधानाचार्य आईटीआई डा० हरिओम, डा० राम हरी सिंह, वैज्ञानिक भैयालाल सिंह, पीसीएस गोर्वधन सिंह सहित सैकडो विधार्थी डाक्टर इंजिनियर, आईएएस, पीसीएस व अन्य पदों पर चयनित होकर विद्यालय का नाम रोशन किय। सभा की अध्यक्षता छेदीलाल सिंह पूर्व प्रधानाचार्य मध्यप्रदेश ने किया। इस मौके पर जिला विद्यालय निरिक्षक महेंद्र सिंह ने कहा कि ऐसे विद्यालय जिले की शान है। जिसे जिले का सबसे विद्यालय का गौरव हासिल है आज मैं विद्यालय के संस्थापक की जयंती पर इस यहां आकर स्वयं को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं। ऐसे कर्मठ, समर्पित व त्यागी महापुरुष दुर्लभ ही पैदा होते हैं जो समाज को शिक्षित करने के लिए अपना सब कुछ समर्पित कर दिया। धन्य है ऐसे महापुरुष जिनका योगदान हमेशा सराहनीय व स्मरणीय रहेगा। संस्थापक के सद्भावना व उद्देश्य को साकार करने के लिए यहां के छात्रों को मन लगाकर पढ़ना चाहिए और विद्यालय का नाम देश दुनिया में रोशन भी करना चाहिए। इस मौके पर राकेश वर्मा, राम लखन सिंह, अजय सिंह, बलवीर सिंह, विवेक सिंह, बड़ा सिंह, संदीप सिंह, धीरेन्द्र सिंह, नरसिंह पटेल आदि गणमान्य लोग मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/देवेन्द्र

AD
AD