फसल की मड़ाई में चुस्त कपड़े पहने किसान, कारोना गाइड लाइन का करें पालन

 फसल की मड़ाई में चुस्त कपड़े पहने किसान, कारोना गाइड लाइन का करें पालन
farmers-dressed-tightly-in-crop-pots-follow-the-carona-guide-line

— कृषि यंत्रों समय—समय पर करें जांच, गीला बोरा सदैव रखे साथ कानपुर, 07 मई (हि.स.)। रवी फसल की इन दिनों कटाई व मड़ाई का कार्य तेजी से चल रहा है और यह देखा जाता है कि किसान हादसे का भी शिकार हो जाते हैं। ऐसे में जरुरी है कि खासकर मड़ाई के दौरान किसान चुस्त कपड़े अवश्य पहने। इसके साथ ही मड़ाई करने वाले कृषि यंत्रों की समय—समय पर जांच भी करते रहें, ताकि चिंगारी निकलने से फसल में आग न लग सके। यह बातें शुक्रवार को सीएसए से संबद्ध कृषि विज्ञान केन्द्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. अशोक कुमार ने कही। चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के कुलपति डा. डी.आर. सिंह के निर्देश पर दलीप नगर स्थित कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष डॉक्टर अशोक कुमार ने किसान भाइयों के लिए रबी फसल की कटाई एवं मड़ाई के लिए एडवाइजरी जारी की है। डा.कुमार ने बताया कि रबी की फसल पक कर तैयार है तथा कटाई एवं मड़ाई का कार्य शुरू हो चुका है। ऐसे में किसान भाई कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए अपने व खेतों पर कार्य करने वाले लोगों के लिए सुरक्षात्मक कदम उठाते हुए फसलों की कटाई एवं मड़ाई इत्यादि कार्य संपन्न करें। उन्होंने कहा है कि गेहूं या सरसों तथा अन्य रबी की फसल काटते समय अपना मुंह मास्क या अंगोछे से ढक कर रखें। गेहूं के बंडल बांधते समय आपस में निश्चित दूरी बनाकर रखें। खेत में फसल कटाई बाहरी घेरे से शुरू करें ताकि अधिक समय तक एक दूसरे से सामाजिक दूरी बनी रहे। मड़ाई के दौरान धूम्रपान का न करें प्रयोग डॉक्टर कुमार ने बताया कि किसान भाई कंबाइन मशीन, रीपर या अन्य यंत्रों जैसे हसिया द्वारा गेहूं की कटाई करते हैं। कृषि यंत्रों के प्रयोग करते समय कभी-कभी चिंगारियां निकलती है या फसल कटाई करने वाले लोगों द्वारा धूम्रपान का प्रयोग किया जाता है। जिसकी चिंगारी से फसल जलकर राख हो सकती है। ऐसे समय में किसान भाई सावधानी बरतें की कोई धूम्रपान न करने पाए। किसान भाइयों के पास फसल मड़ाई करते समय अनुपयोगी जूट के बोरे आदि को पूर्ण रूप से पानी में डुबोकर थ्रेशिंग कार्य करते समय आसपास जरूर रखें। जिससे आग लगने की दशा में गीले बोरों को डालकर आग बुझाया जा सके तथा बड़ी दुर्घटना से बचा जा सके। उन्होंने कहा कि थ्रेसर पर कार्य करते समय शरीर पर ढीले कपड़े, घड़ी, कड़ा इत्यादि पहनकर कार्य न करें। थ्रेसर को चलाने के पूर्व यह सुनिश्चित कर लें कि थ्रेसर की सभी घूमने वाली वस्तुएं बिना रुकावट के घूम रही हैं। मीडिया प्रभारी डा. खलील खान ने बताया कि कृषि यंत्रों को समय- समय पर सैनिटाइजर से सेनीटाइज करते रहें तथा साबुन से हाथ भी धोते रहें। हिन्दुस्थान समाचार/अजय