etawah-lion-pataudi-and-maryam39s-pair-leave-for-gorakhpur-with-special-vehicle-and-convoy-from-safari-park
etawah-lion-pataudi-and-maryam39s-pair-leave-for-gorakhpur-with-special-vehicle-and-convoy-from-safari-park
उत्तर-प्रदेश

इटावा : सफारी पार्क से विशेष वाहन और काफिले के साथ शेर पटौदी और मरियम का जोड़ा गोरखपुर रवाना

news

इटावा, 27 फरवरी (हि.स.)। इटावा सफारी पार्क के शेर पटौदी और मरियम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगीआदित्यनाथ के जिले गोरखपुर मे निर्माणाधीन अशफाक उल्ला प्राणी उद्यान की शान बनेंगे। इन दोनो शेरों को कड़ी सुरक्षा के बीच इटावा सफारी पार्क के डाक्टर और कीपरों की टीम शाम 4 और 5 बजे के बीच गोरखपुर के लिए रवाना किया गया है। लायन सफारी में 18 माह का वक्त गुजारने के बाद पटौदी और मरियम की जोड़ी को भेजा जा रहा है। वह गोरखपुर चिड़ियाघर के लिए ही यहां लाए गए थे। दोनों को सकुशल पहुंचाने के लिए एक डाक्टर, फारेस्टर, दो कीपर साथ भेजे गए है। शाम 4 और 5 बजे गोरखपुर भेजे जाने के पीछे उन्होंने बताया कि दोपहर में घूप की तीव्रता कुछ अधिक रहती है शाम को तापमान सामान्य रहेगा इसलिए उनकी यात्रा मे कोई कठिनाई नहीं होगी। दो घंटे को एक रेस्ट भी शेरों को बीच रास्ते में दिया जायेगा ताकि उनको खाना पानी दिया जा सके। इस मौके पर समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव ने सैकड़ो समाजवादी कार्यकर्ताओं और बैंड—बाजें के साथ मौके पर पहुंचकर शेर के जोड़े को विदाई दी। उन्होंने सरकार से लायन सफारी को पर्यटकों के लिए खोलने की मांग की उन्होंने कहा कि यदि सरकार लायन सफारी को जल्द ही पर्यटकों के लिए नहीं खोलती है तो सपा के लोग आंदोलन करेंगे। इटावा से गोरखपुर शेर भेजे जाने को लेकर समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव ने पत्रकारों से वार्ता में कईयों तरह के सवाल खड़ा किये है। उनका कहना है कि सफारी पार्क से शेरों को भेजा जाना उचित नहीं है, जो शेर इटावा के लिए आये थे उनको इटावा ही रहना देना चाहिए था। उनका कहना है कि इटावा से शेरों को मंगाया जाना कही ना कही लायन सफारी को खुलने की प्रकिया पर जरूर असर पड़ेगा। उनका कहना है कि भले ही इटावा सफारी पार्क आम पर्यटकों के लिए खोल दिया गया हो लेकिन सफारी का मुख्य आकर्षण लायन सफारी ही है जिसको खोला जाना बेहद ही जरूरी है। उनकी मांग है कि सरकार को लायन सफारी को त्वरित ढंग से पर्यटकों के लिए खोला जाना चाहिए। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गृह जनपद गोरखपुर में बन रहे शहीद अशफाक उल्ला प्राणी उद्यान के लिए इटावा सफारी पार्क के दो एशियाटिक शेरों को जायेगा। केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण की अनुमति के बाद शेर पटौदी व शेरनी मरियम को भेजा गया है। गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट शहीद अशफाक उल्ला प्राणी उद्यान को भेजने के लिए इन शेरों के जोड़े का चयन किया गया है। यह प्राणी उद्यान बनकर तैयार हो गया है और मार्च में इसका शुभारंभ किया जाना है। इटावा सफारी में बीते 26 सितम्बर 2019 को गुजरात से सात शेरों को लाया गया था। इनमें से एक शेर तौकीर की मौत हो चुकी है। 25 सितंबर 2019 को गुजरात से इटावा सफारी पार्क लाये गये तौकीर शेर ने 6 अक्टूबर से बिल्कुल खाना बंद कर दिया था। मथुरा और आईबीआरडी बरेली के डाक्टरों को सूचना दी गई थी। बरेली और मथुरा से डाक्टरों ने यहाॅ आकर जांच की और ग्लूकोज चढ़ाया था। शेर की तबियत में सुधार न होने पर 10 अक्टूबर को मथुरा के डाक्टर आये थे। डाक्टरों के प्रयास के बावजूद तौकीर (शेर) की 12 अक्टूबर 2019 को मौत हो गई। 25 सितम्बर को गुजरात से इटावा सफारी पार्क लाये गये शेर शेरनियों और शावकों में से तौकीर शेर इकलौता नर शेर था। तौकीर के साथ ही शेरनी तेजश्वनी, मरियम, जेनीफर और तीन अन्य शावक भी लाये गये रहें। वन विभाग ने इसके लिए प्रदेश स्तर पर एक समिति भी बनाई थी। समिति ने फैसला करके दो शेरों पटौदी व मरियम को भेजने का फैसला किया है। गुजरात से लाए गए शेरों को प्रशिक्षित किया जा चुका है और यहां की आबोहवा में वे पूरी तरह ढल चुके हैं। 25 सितम्बर 2019 को जूनागढ़ से लाए शेर पटौदी और शेरनी मरियम को शनिवार को विशेष वाहन से गोरखपुर रवाना कर दिया जाएगा। वह वहां गोरखपुर चिड़ियाघर की शोभा बढ़ाएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/मोहित