पिछले 4 सालों में 628 करोड़ की लागत से कराया गया ड्रेजिंग कार्य

पिछले 4 सालों में 628 करोड़ की लागत से कराया गया ड्रेजिंग कार्य

लखनऊ। सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग द्वारा मुख्यमंत्री की प्रेरणा से विगत 4 वर्षों में लगभग 628 करोड़ रूपये की लागत से 66 स्थलों का ड्रेजिंग कार्य कराये गये हैं। इससे तटबंधों पर पानी का दबाव एवं कटान को रोकने में सफलता प्राप्त हुई है और तटबंध सुरक्षित होने से बाढ़ के समय जन-धन की हानि में काफी कमी आई है।

सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार ड्रेजिंग कार्य के फलस्वरूप तटबंधों पर पानी का दबाव अत्यन्त न्यून रहा, जिससे बाढ़ की स्थिति में आसपास के क्षेत्रों तथा गॉवों को सुरक्षित करने में मदद मिली। इसके अलावा नदी के बीच शोल को काटा गया। इसके अलावा कतिपय स्थलों पर निकाली गई सिल्ट के निस्तारण से अतिरिक्त राजस्व की प्राप्ति हुई।

ड्रेजिंग का कार्य सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग द्वारा वैज्ञानिक/तकनीकी दृष्टिकोण से बैथीमेट्री, रिवर मार्फोलोजिकल स्टडी एवं डेम स्टडी के उपरान्त कराये गये। जिससे पर्यावरणीय क्षति नहीं हुई और नदियों का प्राकृतिक स्वरूप भी बना रहा।

Related Stories

No stories found.