महानगर में कूड़ा कलेक्शन के नाम पर करोडों का खेल : डा. सुनील तिवारी
महानगर में कूड़ा कलेक्शन के नाम पर करोडों का खेल : डा. सुनील तिवारी
उत्तर-प्रदेश

महानगर में कूड़ा कलेक्शन के नाम पर करोडों का खेल : डा. सुनील तिवारी

news

झांसी, 17 जुलाई(हि.स.)। उत्तर प्रदेश कांग्रेस के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव समिति के केन्द्रीय सदस्य डा. सुनील तिवारी ने प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि झांसी नगर निगम में कई वर्षों से डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन के नाम पर करोड़ो का खेल हुआ है। डा. तिवारी ने कहा कि महानगर में इस समय कुल मकानों की संख्या एक लाख बीस हजार के आसपास है। नगर निगम में जो कूड़ा उठाने वाली कंपनी थी, उनकी संख्या पांच थी। इस प्रकार एक कम्पनी के हिस्से में 24 हजार मकान आते है। अगर झांसी में वार्ड के हिसाब से देखें तो एक कम्पनी के हिस्से में दो दर्जन वार्ड आते है। जबकि पांचों कम्पनियों ने यूजर चार्ज 48 हजार घरों से वसूला। साथ ही साथ कम्पनियों यूजर चार्ज के रूप में नगर निगम में इस साल में 80 लाख रुपए जमा कराये है। नगर निगम ने विगत डेढ़ साल में बीस फीसदी पैसा काटकर पेमेंट किया जाता रहा। डा. तिवारी ने कहा कि मजेदार बात यह है, कि ये पांच कम्पनियां विगत पांच वर्षों से कूड़ा कलेक्शन के नाम पर करीब 22 करोड़ रूपये प्राप्त कर चुकी है। एड. राजेंद्र शर्मा ने कहा कि महानगर में जब हर जगह से कूड़ा कलेक्शन होना निश्चित किया गया था। तो नगर निगम को लाखों रुपये खर्च करके जगह-जगह कूड़े के कन्टेनर रखवाने की क्या जरूरत थी। इस दौरान पूर्व सभासद हेमन्त रावत, पूर्व सभासद लीलादेवी पिरौनिया, युवक कांग्रेस के प्रदेशीय महासचिव विजित कपूर, युवा नेता वासिफ उमर खान आदि मौजूद रहे। आखिर किस आधार पर बढ़ाया अनुबंध नगर निगम में कांग्रेस सभासद दल के नेता और एआईसीसी सदस्य सुलेमान मंसूरी ने कहा कि जब कम्पनियां का अनुबंध मार्च 2019 में समाप्त हो गया था, तो अनुबंध किस आधार पर आगे बढाया गया? कहीं न कहीं यह सत्ताधारी दल के दबाव में लिया गया फैसला तो नहीं? हिन्दुस्थान समाचार/महेश/राजेश-hindusthansamachar.in