गांवों में फैली बीमारी, हर घर में मरीज

गांवों में फैली बीमारी, हर घर में मरीज
disease-spread-in-villages-patients-in-every-household

हमीरपुर, 29 अप्रैल (हि.स.)। बड़ी आबादी वाले ग्राम इगोहटा सहित आसपास के गांवों में मच्छरों के प्रकोप से घर-घर लोग बीमारी से ग्रसित हैं। अस्पतालों में भीड़ होने के कारण लोग बाहर न जाकर गांव में प्राइवेट डाक्टरों से इलाज कराने को विवश हैं। ग्रामीणों का कहना है कि दो दशक से कीटनाशक दवा का छिड़काव न होने से मच्छरों का प्रकोप बढ़ा है। उसी से बीमारी फैली है। गांव में अस्पताल नहीं है तो और समस्या बढ़ गई है। बीमारी से दो की मौत भी हो चुकी है। बताया कि गांव में सिर्फ एक आयुर्वेदिक चिकित्सालय है। एलोपैथिक अस्पताल नहीं है। बुखार, खांसी, जुकाम का इतना भीषण प्रकोप है कि हर घर में दो चार मरीज कराह रहे हैं। कोरोना के भय से कोई बाहर नहीं जा पा रहा है। गांव में साफ सफाई न होने से जगह-जगह गंदगी का अंबार लगा हुआ है। मच्छरों का इतना भीषण प्रकोप है कि रात को तो क्या दिन में भी चैन से नहीं बैठ पाते हैं। लोगों ने बताया कि दो दशक पूर्व तक गांव गांव मलेरिया विभाग द्वारा कीटनाशक दवा का छिड़काव कराया जाता था, तो मच्छर मर जाते थे। मगर अब छिड़काव नहीं कराया जाता है तो मच्छरों की फौज बढ़ती जा रही है। यदि गांव में अच्छी तरह से साफ सफाई कराकर कीटनाशक दवा का छिड़काव करा दिया जाय तो बीमारी का प्रकोप थम सकता है। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/विद्या कान्त