development-is-not-possible-without-becoming-bundelkhand-state-raja-bundela
development-is-not-possible-without-becoming-bundelkhand-state-raja-bundela
उत्तर-प्रदेश

बुन्देलखंड राज्य बने बिना विकास सम्भव नहीं : राजा बुन्देला

news

पूर्व सरकारों की साजिश से बुन्देलखंड राज्य हुआ था समाप्त हमीरपुर, 23 फरवरी (हि.स.)। मुस्करा क्षेत्र के गहरौली गांव में मंगलवार को बुन्देलखंड विकास बोर्ड के उपाध्यक्ष एवं फिल्म कलाकार राजा बुन्देला ने ग्रामीणों से जन संवाद करते हुए कहा कि बुन्देलखंड राज्य बने बिना क्षेत्र के सात और मध्य प्रदेश के पांच जिलों का विकास होना सम्भव ही नहीं है। उन्होंने तर्क दिया कि सात नदियों का पानी है, पर्याप्त खनिज सम्पदा है और बिजली भी पर्याप्त उत्पादित की जा रही है। इसके बावजूद हम सड़क, बिजली और पानी के लिये तरस रहे हैं। बोर्ड उपाध्यक्ष ने कहा कि जब अंग्रेजों और मुगलों के शासन काल में बुंदेलखंड राज्य का दर्जा प्राप्त था तो पूर्व की सरकारों ने साजिश के तहत इसको समाप्त कर उत्तर प्रदेश को यूपी और एमपी में बांट दिया। आवाहन करते हुए उन्होंने सभी को बुंदेलखंड अलग राज्य के समर्थन करने और अब डिजिटलीकरण के तहत फेसबुक और ट्विटर में अलग बुंदेलखंड राज्य के लिए कमेंट द्वारा मांग किए जाने की अपील की। इसके पूर्व गांव के किसान भैयालाल गुरुदेव ने कहा कि जीवन से लेकर मृत्यु तक जब सभी उपयोगी वस्तुओं में एमआरपी होती है तो किसानों द्वारा उत्पादित की गई फसलों की एमएसपी रेट भी निर्धारित की जानी चाहिए। इसके पूर्व विश्व हिंदू परिषद के पुष्पेंद्र सिंह और ओंकार सिंह ने अन्ना जानवर से सम्बंधित तमाम जानकारी दी। संचालन बद्री प्रसाद द्विवेदी ने एवं आयोजक भाजपा नेता मनोज कुमार द्विवेदी ने सभी का आभार प्रकट किया। कार्यक्रम में खंड विकास अधिकारी मुस्करा रामसिंह, कृषि और पशु विभाग के अधिकारी सहित आरएसएस खंड कार्यवाह अभिषेक तिवारी, रामरतन गुरुदेव, आनंद कुमार गुरुदेव, बृजेंद्र कुमार व पूर्व प्रधान विमल चंद गुरुदेव, भाजपा किसान मोर्चा के प्रांतीय सदस्य मनोज कुमार द्विवेदी, अजय राजपूत सहित क्षेत्र के सैकड़ों किसान मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/विद्या कान्त