कोरोना से लड़ने के लिए हमने दिल्ली मॉडल लागू किया : सीएम योगी
कोरोना से लड़ने के लिए हमने दिल्ली मॉडल लागू किया : सीएम योगी
उत्तर-प्रदेश

कोरोना से लड़ने के लिए हमने दिल्ली मॉडल लागू किया : सीएम योगी

news

- प्रयागराज में कोवास मशीन स्थापित होगी, अगस्त के आखिर तक शुरू हो जाएगी आधुनिक मशीन - जांच में तेजी से हम जीत रहे हैं कोरोना की लड़ाई, टेस्ट की गुणवत्ता पर भी दे रहे हैं ध्यान नोएडा, 27 जुलाई (हि.स.)। कोरोना से लड़ने के लिए हमने दिल्ली मॉडल लागू किया जिससे हमें बड़ी सफलता मिल रही है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोमवार को नोएडा, मुंबई, कोलकाता में अत्याधुनिक कोरोना टेस्ट लैब के उद्घाटन के मौके पर यह बातें कहीं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब कोरोना वायरस की शुरुआत हुई तो उस दौरान अप्रैल तक उत्तर प्रदेश में केवल 72 टेस्ट (6 प्रतिशत) प्रतिदिन किए जा रहे थे। आज प्रदेश में कोरोना वायरस टेस्ट करने की क्षमता एक लाख से अधिक है। उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन केवल आरटीपीसीआर के माध्यम से 40 हजार से अधिक लोगों का टेस्ट किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश के 75 जिलों और 24 मेडिकल कॉलेज में ट्रूनेट मशीन से टेस्ट हो रहे हैं। जल्द ही स्वास्थ्य विभाग एंटीजन टेस्ट को एक लाख प्रतिदिन तक बढ़ाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अब उत्तर प्रदेश में टेस्ट की दर 8,440 प्रति मिलियन (दस लाख) हो चुकी है। इसमें 400 टेस्ट प्रति मिलियन टेस्ट बढ़ाने की योजना है। पूरे राज्य में 1,08,800 कोविड हेल्प डेस्क बनाई जा चुकी हैं। पंचायत और नगरीय वार्ड में स्वास्थ्य विभाग की टीम लगाई गई हैं। सीएम ने बताया कि अप्रैल में देश में छह हजार जांच रोज हो रही थीं। इसमें प्रदेश की भागीदारी केवल छह प्रतिशत थी। उन्होंने जानकारी दी कि उत्तर प्रदेश सरकार एक ओर टेस्ट की संख्या तेजी के साथ बढ़ा रही है। दूसरी ओर हमारा जोर टेस्ट की गुणवत्ता बढ़ाने पर भी है। इसके लिए आईसीएमआर और किंग जॉर्ज यूनिवर्सिटी प्रशिक्षण पर विशेष अभियान चला रहे हैं। प्रयागराज में कोवास मशीन स्थापित की जा रही है। वहां अगस्त के आखिर तक एक अत्याधुनिक लैब की शुरुआत हो जाएगी। उन्होंने कहा कि सीएम कोविड फण्ड से तीन और कोवास मशीन खरीदी जा रही हैं। हिन्दुस्थान समाचार/आदित्य-hindusthansamachar.in