debate-competition-on-doubling-farmers39-income
debate-competition-on-doubling-farmers39-income
उत्तर-प्रदेश

किसानों की आय दोगुना पर हुई वाद विवाद प्रतियोगिता

news

सुलतानपुर, 23 फरवरी (हि.स.)। केएनआईपीएस एस फरीदीपुर के कृषि संकाय में “2022 तक किसानों की आय दोगुना-एक सपना या हकीकत“ विषय पर वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन मंगलवार को किया गया। संचालन कर रहे इंजीनियर पीसी यादव ने बताया कि पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के बरेली में एक किसान रैली को संबोधित करते हुए आधिकारिक तौर पर घोषणा की थी कि आने वाले 2022 में जब देश अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा होगा, तो किसानों की आय दोगुनी हो चुकी होगी। विषय के विपक्ष में कृषि स्नातक प्रथम वर्ष के छात्र आनंद कुमार वर्मा व आदित्य कुमार वर्मा, छात्रा खुशी सिंह व श्रद्धा सिंह ने कहा कि भविष्य में महत्वाकांक्षी लक्ष्य है। अशोक दलवई की अध्यक्षता वाली समिति ने थोक मूल्यों के आधार पर 2022 तक किसानों की वार्षिक आय को वर्तमान 96,000 रुपये से 1.92 लाख रुपये तक बढ़ाने के लिए एक विस्तृत रणनीति के साथ रिपोर्ट प्रस्तुत करने का कार्य किया था। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के लिए वार्षिक कृषि विकास दर 14.86 फीसदी होना चाहिए। लेकिन, यहां यह स्पष्ट कर देना जरूरी है कि भारतीय कृषि के इतिहास में कभी भी किसी वर्ष के लिए ऐसी कृषि वृद्धि दर हासिल नहीं हुई है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2019-20 में कृषि विकास दर का अनुमान 2.8 प्रतिशत ही है। वहीं पक्ष में कृषि स्नातक प्रथम वर्ष के छात्र प्रांजल राय व उपहार कुमार, छात्रा प्रगति द्विवेदी व प्राची प्रकाश ने कहा कि मोदी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने के लिए बहुत से महत्वपूर्ण योजनाएं चला रही है। जैसे ई-नाम, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, कृषि में मशीनीकरण योजना, मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना, जैविक खेती योजना, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना और प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना ये बताती है कि कृषि क्षेत्र में हमारा देश विकासशील है। निदेशक जनरल प्रो.डॉ. एसडी शर्मा ने प्रतिभागी छात्र छात्राओं को प्रतिभाग के लिए धन्यवाद दिया। कार्यक्रम में कृषि स्नातक के समस्त छात्र-छात्राओं के साथ-साथ सहायक प्राध्यापक डॉ. बी.यम पांडेय, डॉ. नवलडे भारती, डॉ. शशांक सिंह, डॉ. अभिनव कुमार सिंह आदि उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/दयाशंकर/विद्या कान्त