सौ शैय्या अस्पताल में युवक की मौत, परिजनों ने लगाया डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप

सौ शैय्या अस्पताल में युवक की मौत, परिजनों ने लगाया डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप
death-of-a-young-man-in-hundred-shayyah-hospital-family-accuses-doctors-of-negligence

औरैया, 29 अप्रैल (हि.स.)। शहर के मोहल्ला बनारसीदास दास निवासी एक युवक की गत दिनों हालत खराब हो गई थी। जिस पर उसके परिजन उसे कानपुर ले गए, जहां पर उसकी रिपोर्ट संक्रमित पाई गई। इसके उपरांत परिजन उसे औरैया ले आए और उन्होंने जिला अस्पताल 100 शैय्या में भर्ती कराया। मृतक के चचेरे भाई ने जानकारी देते हुए बताया कि डॉक्टरों की लापरवाही के कारण युवक की मौत हुई है। मोहल्ला बनारसी दास निवासी पंकज पांडे पुत्र संतोष पांडे गत दिनों बीमार हो गया था। जिस पर परिजनों से कानपुर ले गए। जहां पर उसका को कोविड टेस्ट कराया गया। टेस्ट के दौरान उसे संक्रमित बताते हुए भर्ती कर लिया गया। कानपुर में उचित व्यवस्था न होने के कारण वह लोग उसे 100 शैय्या अस्पताल ले आए और भर्ती करा दिया। मृतक के चाचा के पुत्र राहुल पांडे ने जानकारी देते हुए बताया कि गुरुवार को उसके भाई को ऑक्सीजन लगी हुई थी। उसका पाइप फट गया। इस पर एक डॉक्टर से इसकी शिकायत की गई तो डॉक्टर ने वही मौके पर मौजूद उसकी बहन को वह फटा हुआ पाइप पकड़ा दिया और कहा कि मैं दूसरे टाइप का इंतजाम करके लाता हूं। मगर कुछ देर बाद वह आया और उसने उस फटे हुए पाइप पर टेप लगा दिया। जब उसके भाई पंकज को परेशानी हुई तो वह चिल्लाने लगा। इस पर राहुल ने बताया कि एक डॉ आया और उनसे कहा कि तुम ज्यादा चिल्ला रहे हो अभी तो मैं शांत करता हूं और एक इंजेक्शन लाकर उसकी निडिल में लगा दिया। आरोप लगाते हुए राहुल ने कहा कि महज पांच मिनट बाद ही उसके भाई का पूरा शरीर नीला पड़ गया और उसने दम तोड़ दिया। बताया कि पंकज रायपुर में प्राइवेट नौकरी करता है और उसके एक पुत्र व एक पुत्री है। घटना की जानकारी पाते ही परिजनों में कोहराम मच गया। हिन्दुस्थान समाचार / सुनील