केंद्र सरकार की उत्तर प्रदेश में चलने वाली सभी योजनाएं 2021 के नवंबर तक पूरी होने का विश्वास- प्रह्लाद पटेल

केंद्र सरकार की उत्तर प्रदेश में चलने वाली सभी योजनाएं 2021 के नवंबर तक पूरी होने का विश्वास- प्रह्लाद पटेल
confident-of-completion-of-all-schemes-running-in-uttar-pradesh-by-the-central-government-by-november-2021--prahlad-patel

लखनऊ, 11 जून (हि. स.)। केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रह्लाद पटेल ने शुक्रवार को लखनऊ में पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि केंद्र सरकार की उत्तर प्रदेश में चलने वाली सभी योजनाएं 2021 के नवंबर तक पूरी होने का विश्वास है। इसके लिए सरकार, मंत्रालय और उन सभी एजेंसियों को धन्यवाद है, जिन्होंने समय से कार्य करना तय किया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पिछले वर्षो में उत्तर प्रदेश सरकार को 490 करोड़ पर्यटन विकास के लिए राशि दी गयी थी। वे सभी कार्य समय और गुणवत्ता के साथ पूर्ण हुए। बाकि राज्यो में ये सभी कार्य भारत सरकार बता भी सकती है। अयोध्या और काशी का कार्य तो सीधे तौर पर सभी देख ही रहे है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पहले धार्मिक पर्यटन स्थलों के देखरेख पर कोई कार्य नहीं होता था। 2014 के बाद से धार्मिक स्थलों पर कार्य कराया गया है। प्रसाद योजना के तहत उत्तर प्रदेश सरकार को 125 करोड़ रुपये दिए गए, जिसे लगभग खर्च कर कार्य कराया गया है। प्रह्लाद पटेल ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्सव में जिस प्रकार केंद्र सरकार की मंशा अनुरूप उत्तर प्रदेश ने काम किया है, वह भी काबिले तारीफ है। इस महामारी के दौरान भी शहीद स्मारकों पर कार्यक्रम हुए और उन शहीदों को भी याद किया गया जिन्हें लोगों ने गुमनामी में डाल दिया है। उन्होंने कहा कि आज शाहजहांपुर में पंडित राम प्रसाद बिस्मिल की प्रतिमा पर हम सभी ने जाकर माल्यार्पण किया और अपनी श्रद्धांजलि दी। वहां जिस प्रकार लोगों में उत्साह दिखाई दिया यह मालूम होता है कि यह अमृत महोत्सव सफलता की ओर बढ़ चला है। पटेल ने कहा कि हमारे देश से पुरानी वस्तुएं बड़े पैमाने पर चोरी की गई थी। इसमें से 53 अति प्राचीन पुरातत्व के लिए महत्वपूर्ण वस्तुएं देश में वापस आए हैं और जिसमें से 40 वस्तुएं 2014 के बाद भारत में लाई गई है। विश्व स्तर पर वाराणसी के घाटों को यूनेस्को ने अपने पेज पर लिया है। विश्व स्तर पर हमने भारत को बहुत बड़े पुरातत्व संस्कृति और धार्मिक स्थलों का केंद्र के रूप में प्रस्तुत किया है। हिन्दुस्थान समाचार/शरद