जिला पंचायत अध्यक्ष की दावेदारी को लेकर सपा में मंथन जारी

जिला पंचायत अध्यक्ष की दावेदारी को लेकर सपा में मंथन जारी
churning-continues-in-sp-over-the-claim-of-district-panchayat-president

कासगंज, 07 मई (हि.स.)। जिला पंचायत अध्यक्ष पद को लेकर समाजवादी पार्टी मंथन करने में जुट गई है। पार्टी को जिले की 23 में से 11 सीटों पर बढ़त मिली है। इसके बाद कार्यकर्ताओं के हौसले बुलंद हो गए है। भाजपा, बसपा दूसरे एवं तीसरे स्थान की पार्टी बनकर रह गई है। जिले में 11 सीटें जीतकर समाजवादी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर सामने आई है। भारतीय जनता पार्टी को पांच, बसपा को चार सीटें मिली है। इसके साथ तीन निर्दलीय प्रत्याशियों ने बाजी मारी है। समाजवादी पार्टी खेमे में अध्यक्ष पद को लेकर उम्मीदें बनी हुई है। पार्टी के जिलाध्यक्ष देवेंद्र सिंह यादव की पुत्री तनु यादव एवं उनके धेवते समर्थ यादव दोनों में से ही किसी एक का अध्यक्ष चुना जाना तय है। दोनों ही नामों पर पार्टी की जिले की कैबिनेट मंथन कर रही है। इधर, पार्टी हाई कमान पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के समक्ष भी जिले की स्थिति स्पष्ट कर दी गई है। सपा का जिलाध्यक्ष तय माना जा रहा है। जिलाध्यक्ष एवं पूर्व सांसद देवेंद्र सिंह यादव का कहना है कि प्रत्याशी का चयन शेष रह गया है। पार्टी हाईकमान को नाम भेजे जा चुके है। इनकी स्वीकृति मिलते ही नए अध्यक्ष की घोषणा कर दी जाएगी। सपा का बागी हो सकता है खेमे में शामिल त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के शुरूआती दौर में समाजवादी पार्टी ने अपने समर्थित प्रत्याशियों का चयन काफी सोच समझ कर किया था। जातिगत आंकड़े एवं प्रत्याशी के व्यक्तित्व को प्राथमिकता देते हुए चुनाव लड़ाया। परिणाम पाजिटिव रहा। वार्ड नंबर एक से समाजवादी पार्टी ने अभय यादव को समर्थन न देकर अन्य प्रत्याशी को मैदान में उतार दिया। इसके बाद अभय यादव ने पार्टी से बगावत कर चुनाव लड़ा और विजयश्री हासिल की। अब समाजवादी पार्टी के समक्ष बहुमत के लिए एक सदस्य की आवश्यकता है। इसके लिए अभय यादव से पार्टी लगातार बातचीत कर रही है। संभवत: अभय यादव के शामिल होने के बाद पार्टी को पूर्ण बहुमत मिल जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/पुष्पेंद्र