मुख्यमंत्री योगी के दूत के सामने आक्रोशित ग्रामीणों ने लगाये पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे
मुख्यमंत्री योगी के दूत के सामने आक्रोशित ग्रामीणों ने लगाये पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे
उत्तर-प्रदेश

मुख्यमंत्री योगी के दूत के सामने आक्रोशित ग्रामीणों ने लगाये पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद के नारे

news

-नगसर क्षेत्र के नुरपुर गांव में नौ लोगों को पुलिस द्वारा बर्बरता पूर्वक पीटे जाने का मामला -रविवार को प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप गये थे पीड़ित परिवार से मिलने गाजीपुर, 02 अगस्त (हि.स.)। नगसर थाना क्षेत्र के नूरपुर गांव में पुलिस द्वारा ब्राह्मण परिवार के नौ लोगों की बर्बरता पूर्वक पिटाई की घटना में रविवार को एक रोमांचक मोड़ आ गया। जब पीड़ित परिवार से मिलने जनपद के प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला नूरपुर पहुंचे और वापसी के लिए घर से बाहर निकले तो आक्रोशित ग्रामीणों ने राज्यमंत्री के सामने पुलिस प्रशासन व व्यवस्था के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाये। प्रभारी राज्यमंत्री के सामने लगे मुर्दाबाद के नारे की घटना की चर्चा पूरे जिले में जोरों पर है। एक फौजी परिवार की थाने में बुरी तरह से पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कल घटना का संज्ञान लिया था और जनपद के प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला को तत्काल पीड़ित परिवार से मिलकर घटना की पूरी जानकारी लेने का निर्देश दिया था। मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद रविवार को प्रभारी मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला नगसर क्षेत्र के नूरपुर गांव पहुंचे और पीड़ित परिवार से मिलकर घटना की पूरी जानकारी ली। परिवार से मिलने के बाद प्रभारी मंत्री ने कहा कि 26 जुलाई को एक अप्रिय घटना हुई थी। आज मैंने पीड़ित परिवार से मुलाकात की है और मामले की पूरी जानकारी ली है। मैं मुख्यमंत्री जी को पूरी घटना से अवगत कराउंगा। फिलहाल आरोपी एसओ नगसर हाल्ट रमेश कुमार को लाइन हाजिर कर दिया गया है और दरोगा कृष्णा यादव को भी हटा दिया गया है। एसडीएम जमानियां और सीओ जमानियां को मामले की जांच सौंपी गयी है। किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जायेगा। इस दौरान प्रभारी मंत्री को ग्रामीणों के विरोध का भी सामना करना पड़ा। कुछ युवा एसओ को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने की मांग कर रहे थे, जिस पर प्रभारी मंत्री ने कहा कि सभी को अपनी बात कहने का अधिकार है और मुख्यमंत्री मामले को लेकर गंभीर हैं। बता दें नगसर थाने के नूरपुर गांव के एक फौजी ब्राह्मण परिवार के 9 सदस्यों की नगसर थाने में रातभर बुरी तरह से पिटाई की गयी थी। पीड़ितों पर पुलिस ने आरोप लगाया था की ये लोग किसी अपराधी को अपने घर में शरण दिये हुए हैं, जबकि पीड़ित परिवार का आरोप है कि आरोपी एसओ और अन्य पुलिसकर्मी बिना किसी वारंट के उनके घर में उस समय घुसे जब उनके घर मे तेरहवीं की तैयारी चल रही थी और परिवार के 9 सदस्यों को बिना किसी ठोस कारण के पुलिसकर्मी थाने ले गये और थाने में सभी की रातभर बुरी तरह से पिटाई की गयी। पीड़ित परिवार ने इस पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर न्याय की मांग की थी। हालांकि पीड़ित पूर्व फौजी अजय कुमार पांडेय और वर्तमान हवलदार केके पांडेय ने तो यहां तक आरोप लगाया की एसओ ने रातभर उनके परिवार के 9 सदस्यों की बुरी तरह से पिटाई तो की ही उनके जनेऊ भी उतार लिये गये और और उनको राम का नाम भी नहीं लेने दिया गया। यही वजह है कि ब्राह्मण संघठन भी इस मामले में सोशल मीडिया पर न्याय की मांग करने लगा और मंत्री के सामने भी विरोध में नारेबाजी की गयी। मंत्री के साथ जिलाधिकारी, एसपी ग्रामीण, भाजपा जिलाध्यक्ष भानूप्रताप सिंह सहित बड़ी तादात में स्थानीय भाजपा नेता भी मौजूद थे। वहीं दूसरे तरफ मंत्री जी के जाने के बाद एमएलसी चंचल सिंह अपने समर्थको के साथ नूरपुर पहुंचे। उन्होंने पीड़ित ग्रामीण परिवार को आश्वासन दिया कि यह मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में है भयभीत न हो। जो भी दोषी होगा उसपर कार्रवाई होगी, ताकि भविष्य में ऐसी घटना न घट सकें। योगी सरकार आपकी सरकार है, हर संभव मदद करेंगे। इस मौके पर रिद्धिनाथ पांडेय, योगेंद्र सिंह, पप्पू सिंह, राजन सिंह, पंकज तिवारी और प्रदीप पाठक आदि लोग मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीराम/उपेन्द्र-hindusthansamachar.in