आग के ताण्डव से करीब सौ बीघा गेहूँ की खड़ी फसल जलकर खाक

आग के ताण्डव से करीब सौ बीघा गेहूँ की खड़ी फसल जलकर खाक
burning-standing-crop-of-hundred-bigha-wheat-from-fire-orgy

फतेहपुर, 14 अप्रैल (हि.स.)। जिले में बुधवार को संदिग्ध अवस्था में अचानक गेहूँ की खड़ी व पकी फसल में आग लग गयी। जब तक आग पर किसान काबू पाने की कोशिश करते तब तक तीन गांव के लगभग दो दर्जन किसानों की करीब सौ बीघा गेहूँ की खड़ी फसल जलकर भस्म हो गयी। जानकारी के अनुसार मलवां थाना क्षेत्र के सनगांव, कसेरुवा और तिल महमूद का पुरवा गांव की गेहूँ की फसल में आज दोपहर बाद अचानक आग लग गयी। आग देखते ही किसान बुझाने दौड़ पड़े। लेकिन आग देखते ही देखते विकराल रूप धारण कर लिया। किसी तरह ग्रामीण आग पर काबू पाने में सफल हुए। लेकिन तब तक करीब दो दर्जन किसानों की सौ बीघा के करीब फसल जलकर स्वाहा हो गयी। इस आग की चपेट में उक्त तीनों गांव के लम्बू, सिराज मुंशी, मोबिन, बल्लू, गोलू मुखिया, बेनी प्रसाद, रामदास, दाऊद, रईस, अयूम, शहीद, रफीक, चिक्के, आमीन, महमूद, आले हसन अब्दुल सत्तार, बड़कऊ बनिया पप्पू, मुन्ना, गफ्फार, मुख्तार सहित अन्य किसानों की फसलें आग में जलकर बरबाद हो गई। सनगांव निवासी पीड़ित किसान अमीन खां ने बताया कि आग लगने की सूचना प्रशासन की दी गयी लेकिन न ही समय से दमकल गाड़ी आयी और न ही कोई राजस्व कर्मचारी। वहीं आग बुझने के काफी देर बाद उपजिलाधिकारी प्रियंका राजस्व टीम के साथ मौके पर पहुंची। पीड़ित किसानों ने समय से दमकल गाड़ी न आने की शिकायत की तो उन्होंने बताया कि पहले आग कसेरुवा गांव में लगी होने की जानकारी मिली। गांव का रास्ता खराब होने के कारण आने में देर हुई है। फिर भी अगर किसी की लापरवाही होगी तो उचित कानूनी कार्रवाई की जायेगी। वहीं उपजिलाधिकारी ने राजस्व टीम को शीघ्र जली फसल का सर्वे कर रिपोर्ट देने को कहा। उन्होंने पीड़ित किसानों को आश्वासन देते हुए कहा कि जिन किसानों का नुकसान हुआ है, उन्हें शीघ्र उचित मुआवजा दिलाया जायेगा। हिन्दुस्थान समाचार/देवेन्द्र/विद्या कान्त