रेडमेसिविर इंजेक्शन की काला बाजारी, दो निजी अस्पतालों में छापा,नोटिस जारी

रेडमेसिविर इंजेक्शन की काला बाजारी, दो निजी अस्पतालों में छापा,नोटिस जारी
black-market-of-redmisivir-injection-raid-in-two-private-hospitals-notice-issued

गाजियाबाद, 29 अप्रैल(हि.स.)। अस्पतालों में भर्ती मरीजों के परिजनों से अस्पताल प्रबंधन द्वारा रेमडेसीविर इंजेक्शन उपलब्ध कराए की शिकायत के बाद गुरुवार को जिला प्रशासन व पुलिस ने गणेश व नागर अस्पताल में छापे मारी की। अस्पतालों के स्टॉक में रेमडेसीविर इंजेक्शन पाए गए। जबकि इन दोनों अस्पतालों में भर्ती मरीजों के परिजनों ने बताया कि उनसे बाहर से यह इंजेक्शन उपलब्ध कराए जाने के लिए कहा जा रहा है। फिलहाल टीम ने दोनों अस्पतालों के कंप्यूटर को अपने कब्जे में ले लिया है और गहनता से जांच की जा रही है। साथ ही दोनों अस्पताल के प्रबंधकों को प्रोटोकॉल उल्लंघन नोटिस जारी किया है। एसपी डॉक्टर इराज राजा ने बताया कि कोरोना संक्रमित मरीजों को बढ़ने के कारण सरकारी अस्पताल के अलावा निजी अस्पतालों में भी भर्ती किया गया है। इन सभी अस्पतालों को लगातार रेमडेसीविर इंजेक्शन की सप्लाई भी दी जा रही है। लेकिन प्रशासन को शिकायत मिली कि अस्पताल प्रबंधन के द्वारा मरीजों के परिजनों से बाहर से रेमडेसीविर इंजेक्शन की व्यवस्था किए जाने के लिए कहा जा रहा है। इस पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए उन्होंने एसडीएम आदित्य प्रजापति के साथ मिलकर गणेश अस्पताल और नगर अस्पताल पर देर रात छापेमारी की तो वहां पर यह इंजेक्शन स्टॉक में पाए गए। जबकि इन अस्पतालों के द्वारा भी यहां भर्ती मरीजों के परिजनों से बाहर से रेमडेसीविर इंजेक्शन लाने के लिए कहा जा रहा था। उन्होंने बताया कि फिलहाल अस्पतालों में इस इंजेक्शन की सप्लाई के रिकॉर्ड के आधार पर मिलान करने के लिए दोनों अस्पतालों के कंप्यूटर को कब्जे में ले लिया गया है और गहनता से जांच की जा रही है। हिन्दुस्थान समाचार/फरमान अली