भाजपा विधायक ने निगोही पुलिस के खिलाफ खोला मोर्चा
भाजपा विधायक ने निगोही पुलिस के खिलाफ खोला मोर्चा
उत्तर-प्रदेश

भाजपा विधायक ने निगोही पुलिस के खिलाफ खोला मोर्चा

news

-थाने में बेकसूर युवकों को बुरी तरह पीटने का आरोप शाहजहांपुर, 23 जुलाई (हि.स.)। निगोही पुलिस द्वारा चोरी के संदेह में युवकों की बेहरमी से पिटाई का मामला प्रकाश में आया है। पुलिस की पिटाई से जख्मी युवक व उसके परिजन गुरुवार को निगोही भाजपा विधायक के साथ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे जहां भाजपा विधायक ने निगोही पुलिस व एसपी सिटी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। मामला निगोही थाना क्षेत्र के गांव मोहरतला का है। गांव निवासी अशोक ने बताया कि विगत दिनों गांव के ही विश्राम का मोबाइल फोन चोरी हो गया था। 21 जुलाई की रात मोबाइल चोरी के संदेह में पुलिस ने उसके, मनोज और सत्यवीर के यहां दबिश दी और सभी को पकड़ कर निगोही कोतवाली ले आई। आरोप है की थानाध्यक्ष राजेश कुमार, उपमनिरिक्षक विश्नोई व अन्य पुलिस कर्मियों ने पूछताछ के बहाने तीनों की बड़ी बेरहमी से पिटाई की। जिसमे वो लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए। जबकि वो लोग बेकसूर थे। मामले में भाजपा विधायक के हस्तकक्षेप करने व पुलिस अधीक्षक के कई बार कहने के बाद निगोही पुलिस ने सभी को छोड़ दिया। गुरुवार को भाजपा विधायक पीड़ित युवकों को लेकर पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे जहां भाजपा विधायक ने मीडिया के सामने निगोही पुलिस के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली।इस दौरान उन्होंने कहा कि निगोही पुलिस बेकसूरों को प्रताड़ित करने पर आमादा है। विधायक का कहना है कि पहली चीज तो युवक बेकसूर थे। अगर उनका कसूर था तो उनको सीधे जेल भेजते। युवकों को इतनी बेरहमी से पीटने की क्या जरूरत थी। विधायक का कहना है कि मामले की शिकायत पुलिस अधीक्षक से की। पुलिस अधीक्षक ने थानाध्यक्ष से बात की लेकिन थानाध्यक्ष ने पुलिस अधीक्षक की भी नहीं मानी अपनी पर अड़ा रहा। पुलिस अधीक्षक के कई बार कहने के बाद थानाध्यक्ष ने युवकों को छोड़ा। विधायक ने एसपी सिटी पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि शिकायत करने पर एसपी सिटी ने तो उनसे यह तक कहा की मुख्यमंत्री के निर्देश है कि फर्जी तरह से बेकसूरों को जेल भेज दो। भाजपा विधायक ने कहा है की वो पूरे मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से करेंगे। एसपी सिटी संजय कुमार ने कहा कि भाजपा विधायक द्वारा निगोही पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर शिकायत की गई है। मामले की जांच होगी और लापरवाही बरतने वाले दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं एसपी सिटी ने खुद पर लगे आरोपों पर बोलने से इंकार कर दिया। हिन्दुस्थान समाचार/अमित/दीपक-hindusthansamachar.in