कोरोना के खिलाफ लोगों में विकसित एंटीबाडी की अब होगी जांच, चलेगा सीरो सर्वे

कोरोना के खिलाफ लोगों में विकसित एंटीबाडी की अब होगी जांच, चलेगा सीरो सर्वे
antibody-developed-in-people-against-corona-will-now-be-investigated-sero-survey-will-be-done

-कोरोना और टीकाकरण के बाद से विकसित एंटीबाँडी की जांच के लिये टीमें भी गठित -कोरोना को हराने वाले 42 लोगों के सैम्पलों की भी केजीएमयू लखनऊ में होगी जांच हमीरपुर, 07 जून (हि.स.)। कोरोना के खिलाफ लोगों में विकसित प्रतिरोधक क्षमता (एंटीबॉडी) की जांच के लिए जनपद में सीरो सर्वे नौ जून से शुरू होगा। इसके साथ ही कोरोना की सम्भावित तीसरी लहर पर काबू पाने को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने पूरी तरह से कमर कस ली है। इसके लिए जनपद में रेंडम सर्वे शुरू होगा। तीन दिन तक चलने वाले इस सीरो सर्वे में 31 ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में टीमें भ्रमण कर प्रत्येक क्षेत्र से 24-24 सैंपल इकट्ठा करेंगी। जिन्हें जांच के लिए केजीएमयू लखनऊ के माइक्रो बायोलॉजी डिपार्टमेंट भेजा जाएगा। जांच में इस बात का निष्कर्ष निकाला जाएगा कि लोगों में कोरोना और टीकाकरण के बाद से कितनी एंटीबॉडी विकसित हुई है, जिस क्षेत्र की रिपोर्ट संतोषजनक नहीं होगी वहां टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाएगी। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ.आरके सचान ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की टीमें सैंपल लेने वाले क्षेत्र को चार सेक्टरों में बांट देंगी। प्रत्येक एरिया से 6-6 लोगों के सैंपल लिए जाएंगे। इसमें दो महिला और दो पुरुष (बालिग) और 5 से 17 साल के बालक-बालिका होंगे। उन्होंने बताया कि इस सर्वे का उद्देश्य यह पता लगाना है कि कोरोना संक्रमण और टीकाकरण के बाद कितनी एंटीबॉडी विकसित हुई और कितने समय तक शरीर में बनी रह सकती है। जिस इलाके में इस बात की पुष्टि होती है कि यहां लोगों में एंटीबॉडी आशा के अनुरूप विकसित नहीं हुई है तो ऐसे इलाके तीसरी लहर में ज्यादा प्रभावित हो सकते हैं। लिहाजा समय रहते इन सभी इलाकों में तेजी से टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना से ठीक होने वाले जनपद के चिन्हित किए गए 42 लोगों के भी सैंपल लिए जाएंगे। जनपद के सात ब्लाकों से ऐसे 6-6 लोगों को चिन्हित किया गया है। सीरो सर्वे पर एक नजर 10 टीमें सर्वे में लगेंगी। प्रत्येक टीम में एक डॉक्टर, एक लैब टेक्नीशियन, एक एएनएम/सीएचओ और आशा बहू होंगी। प्रत्येक टीम को एक वाहन भी उपलब्ध कराया गया है। 9 जून से शुरू होने वाले अभियान को 11 जून को समाप्त किया जाएगा। इस दौरान जो भी सैंपल लिए जाएंगे वह प्रतिदिन लखनऊ स्थित केजीएमयू के माइक्रो बायोलॉजी डिपार्टमेंट भेजे जाएंगे। जहां इन सैंपल की जांच कर निष्कर्ष निकाला जाएगा। जनपद के 31 ग्रामीण और शहरी क्षेत्र में विभाग की टीमें सीरो सर्वे करेंगी। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज/विद्या कान्त