मतपत्र की गड़बड़ी की वजह से आक्रोशित ग्रामीणों ने किया पत्थरबाजी

मतपत्र की गड़बड़ी की वजह से आक्रोशित ग्रामीणों ने किया पत्थरबाजी
angry-villagers-stoned-because-of-ballot-mess

मऊ, 29 अप्रैल (हि.स)। घोसी कोतवाली थाना क्षेत्र के अमिला प्राथमिक विद्यालय पोलिंग बूथ पर मतपत्र खत्म हो जाने पर ग्रामीणों ने जमकर बवाल काटा।आक्रोशित ग्रामीणों ने दौड़ा-दौड़ा कर पुलिस पर पत्थर फेंके जिसमें सीओ की गाड़ी का शीशा समेत कई गाड़ियों का शीशा तोड़ दिया। सूचना मिलते ही मौके पर भारी फोर्स बल पहुंच कर स्थिति को नियंत्रण में किया। उस मतदान केंद्र पर 14 और 15 दोनों वार्ड का मतदान अलग अलग होना चाहिए था। ग्रामीणों ने पीठासीन अधिकारी के ऊपर जबरदस्त लापरवाही का आरोप लगाया। वार्ड नंबर 14 का ही बैलट पेपर से कराया जा रहा था और एक ही मत पेटी में डाला जा रहा था जबकि 14 वार्ड का बैलेट पेपर खत्म हो गया तो 15 वार्ड का बैलेट पेपर इस्तेमाल होने लगा। दोनों वार्ड का मतदान एक ही बूथ में होने के कारण चुनाव चिन्ह बदल गया। जिसकी शिकायत मतदाताओं ने पीठासीन अधिकारी से किया। पीठासीन अधिकारी ने उल्टे मतदाताओं को फर्जी वोटिंग के आरोप में पुलिस से बाहर करवा करबल प्रयोग करवा दिया है। उस भगदड़ में 11 लोग घायल होगये जिसमे 4 महिलाएं भी शामिल है । उग्र ग्रामीणों ने घटना के बाद चक्का जाम कर दिया। घंटो जद्दोजहद के बाद पुलिस के आश्वासन के बाद जाम समाप्त हुआ। टेलीफोन पर पुलिस अधीक्षक सुशील घुले ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा पीठासीन अधिकारी के ऊपर लापरवाही का आरोप लगाया उसके बाद ग्रामीणों द्वारा पुलिस की एक गाड़ी पर पथराव किया गया वह अन्य कुछ गाड़ियों पर भी किया गया। ग्रामीणों ने मत पेटी को जमा करने से मना कर रहे थे लेकिन हम लोगों द्वारा आश्वासन के बाद की मत पेटी को जमा करने दिया जाए । शुक्रवार को एसडीएम घोसी द्वारा जांच करवाया जाएगा। अगर जांच में पीठासीन अधिकारी दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ तो सख्त कार्रवाई की जाएगी साथ ही चुनाव को निरस्त कर चुनाव आयोग द्वारा पुनह मतदान कराने का प्रक्रिया किया जायेगा। हिन्दुस्थान समाचार / वेद नारायण