चारों स्तम्भों में समन्वय बनाता है अधिवक्ता : सौरभ श्याम शमशेरी

चारों स्तम्भों में समन्वय बनाता है अधिवक्ता : सौरभ श्याम शमशेरी
advocate-creates-coordination-in-all-four-pillars-saurabh-shyam-shamsheri

मेरठ, 11 जून (हि.स.)। इलाहाबाद उच्च न्यायालय प्रयागराज के न्यायमूर्ति सौरभ श्याम शमशेरी ने कहा कि अधिवक्ता न्यायालय का आफीसर है और उसका मूल कार्य न्याय का निष्पादन है न कि एक पक्षकार को विजय दिलाना। अधिवक्ता एक ऐसा समूह व शक्ति है जो इन चारों स्तम्भों में समन्वय बनाता है जिससे समाज व न्याय के बीच दूरियां कम हो। अधिवक्ता परिषद उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड द्वारा शुक्रवार को वर्चुअल विधिक बैठक का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता इलाहाबाद उच्च न्यायालय प्रयागराज के न्यायमूर्ति सौरभ श्याम शमशेरी द्वारा ’अधिवक्ता-लोकतंत्र का केन्द्रीय स्तम्भ’ विषय पर व्याख्यान दिया गया। उन्होंने कहा कि अधिवक्ता अपने कार्य को पूर्ण तैयारी, कुशलता, सहजता व सरलता के साथ न्यायालय के समक्ष रखता है। जिससे उसके मुवक्किल का विश्वास उस पर बना रहे। संविधान में तीन स्तम्भ बताए गए हैं, परन्तु वर्तमान मीडिया चौथे स्तम्भ के रूप में स्थापित हुआ है। अधिवक्ता एक ऐसा समूह व शक्ति है जो इन चारों स्तम्भों में समन्वय बनाता है जिससे समाज व न्याय के बीच दूरियां कम हो। अधिवक्ता अपने तर्क से ही विधि सम्वत न्याय दिलाने में सक्षम है। न्यायालय को प्रामाणिक और सद्भावनापूर्ण दाखिल जनहित याचिका को प्रोत्साहित करना चाहिए। यही कार्य समस्त अधिवक्ता समाज का भी है। न्यायः मम धर्मः के ऊपर चलकर समाज की अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति को न्याय दिलाना अधिवक्ता परिषद के कार्यकर्ताओं का कार्य है। उच्चतम न्यायालय में उच्च न्यायालय के निर्णय को चुनौती दी जा सकती है। संविधान के अनुच्छेद 32 के अंतर्गत सीधे उच्चतम न्यायालय में जाया जा सकता है। जब विधायिका कोई कानून बनाती है तो अधिवक्ता समाज को उस पर शोध कर, चिन्तन कर अवगत कराना चाहिए। अधिवक्ताओं को न्यायिक कार्य से विरत नहीं रहना चाहिए। अधिवक्ताओं की हड़ताल उनके मुवक्किल का नुक्सान करती है। अच्छा अधिवक्ता अपने वाद के सशक्त और कमजोर पहलुओं का विशेष ध्यान रखता है। अधिवक्ता समाज का एक ऐसा व्यक्तित्व है जो समाज के पीड़ित व्यक्तियों को अपनी आवाज देकर न्याय दिलवाता है। कार्यक्रम के अंत में क्षेत्रीय मंत्री चरण सिंह त्यागी ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन सर्वेश शर्मा ने किया। इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश अधिवक्ता परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष नरोत्तम गर्ग, झम्मन सिंह वर्मा, सुधांशु अग्रवाल, कमल सिंह, राखी शर्मा, आनंद सिंह जंघाला, सुदेश त्यागी, शुचि शर्मा, जानकी सूर्या, भास्कर जोशी, सुयश पन्त, अनुज शर्मा, प्रमोद त्यागी, पराग गर्ग आदि अधिवक्ताओं की उपस्थित रही। हिन्दुस्थान समाचार/कुलदीप