‘मलेरिया रोधी अभियान’ में जनवरी से अब तक लिए 8926 नमूने, 09 पॉजिटिव मिले

‘मलेरिया रोधी अभियान’ में जनवरी से अब तक लिए 8926 नमूने, 09 पॉजिटिव मिले
8926-samples-taken-since-january-in-39anti-malaria-campaign39-09-positives-were-found

बांदा, 11 जून (हि.स.)। मानसून आने से पूर्व मच्छरजनित रोगों पर लगाम लगाने के लिए ‘मलेरिया रोधी अभियान’ चलाया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीमें शहरी व ग्रामीण इलाकों में कोरोना के साथ-साथ लोगों को मलेरिया, डेंगू और फाइलेरिया से बचाव के प्रति जागरूक कर रही हैं। प्रचार सामग्री भी बांटी जा रही है। यह अभियान 30 जून तक चलेगा। वर्तमान समय में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बेहद कम हो गई है। अस्पतालों में ओपीडी सेवा शुरू होने के साथ ही अन्य कार्यक्रमों को धीरे-धीरे संचालित किये जा रहे है। आमतौर पर बुंदेलखंड में 15 जून से मानसून के दस्तक देने के साथ ही मच्छरजनित रोगों में बढ़ोत्तरी होने लगती है ऐसे में मलेरिया और डेंगू बुखार तेजी से पांव पसारता है। इसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग कोविड सर्वे के साथ-साथ मच्छरजनित रोगों पर प्रभावी लगाम लगाने को लेकर अभियान चला रहा है। जिला मलेरिया अधिकारी पूजा अहिरवार ने बताया कि अभियान में आशा कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी और एएनएम को लगाया गया है। टीमें गांवों में रोजाना भ्रमण कर ग्रामीणों को कोरोना के साथ-साथ मच्छरों से होने वाली बीमारियों के प्रति आगाह कर रही हैं। वॉल पेंटिंग भी कराई जा रही है। जलभराव वाले स्थानों पर दवा का छिड़काव और ‘हर रविवार मच्छर पर वार’ जैसे कार्यक्रमों को चलाकर लोगों को साफ-सफाई के प्रति जागरूक किया जा रहा है। बुखार वाले मरीजों को निकटवर्ती स्वास्थ्य केंद्रों पर जांच कराने की सलाह दी जा रही है। मलेरिया ग्रसित रोगियों का निशुल्क इलाज की व्यवस्था है। मलेरिया अधिकारी ने बताया कि जनवरी 2021 से अब तक जनपद में 8,926 लोगों के रक्त के नमूने लेकर जांच की गई है, इसमें 09 मलेरिया केस मिले हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल