कोरोना काल में मदद को आगे आई 'वनांगना', बांदा व चित्रकूट में जारी किए हेल्पलाइन नंबर

कोरोना काल में मदद को आगे आई 'वनांगना', बांदा व चित्रकूट में जारी किए हेल्पलाइन नंबर
39vanangana39-came-forward-to-help-in-the-corona-period-helpline-numbers-issued-in-banda-and-chitrakoot

- 650 परिवारों को राशन व मेडिसिन किट बांटने की तैयारी बांदा, 09 जून (हि.स.)। कोरोना संक्रमण के दौर में लोगों की मदद के लिए गैर सरकारी संगठन भी आगे आ रहे हैं। कोरोना प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। महिला हिंसा व शिक्षा पर काम कर रही वनांगना संस्था इसकी बानगी है। संस्था ने बांदा व चित्रकूट जनपद में हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। इसके माध्यम से लोगों को कोविड के प्रति जागरूक करने के साथ उन्हें मेडिसिन किट व राहत पैकेट पहुंचाने के लिए काम कर रही है। हेल्पलाइन पर अब तक आधा सैकड़ा से ज्यादा कॉल आ चुकी हैं। कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लगाए गए लाकडाउन से सभी वर्ग प्रभावित हुए हैं। इसका सबसे ज्यादा प्रभाव रोजाना कमाकर खाने वाले गरीब परिवारों पर पड़ा है। लोगों को राहत पहुंचाने में शासन व प्रशासन के लोग जुटे है लेकिन संकट के इस दौर में गैर सरकारी संगठन भी पीछे नहीं हैं। वनांगना संस्था हेल्पलाइन नंबर जारी कर लोगों को कोविड के बारे में जानकारी के साथ ही जनपद में जांच व इलाज की सुविधा के बारे में भी जानकारी प्रदान कर रही है। आर्थिक संकट से जूझ रहे लोगों को राशन किट देने के लिए भी सूची तैयार की जा रही है। संस्था की वरिष्ठ संदर्भदाता समूह शबीना मुमताज ने बताया कि बांदा जनपद के लिए 7307770294 और चित्रकूट के लिए 7307788910 कोविड हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। यह सेवा चार जून से शुरू की गई है। अब तक दोनों जनपदों में 50 से ज्यादा कॉल आ चुकी हैं, जिन्हें रजिस्टर में दर्ज किया जा रहा है। लोगों की जरूरत के हिसाब से उन्हें मेडिसिन किट व 650 परिवारों को जल्द ही राशन किट उपलब्ध कराई जाएगी। लोगों की मदद के लिए उनकी टीम में बांदा-चित्रकूट के 35 निजी डाक्टर, लखनऊ के आठ डाक्टर, दिल्ली की दो नर्स, 10 वालिंटियर्स सहित संस्था के 16 कार्यकर्ता शामिल हैं। हेल्पलाइन पर सुबह आठ बजे से रात नौ बजे तक काल कर समस्या बताई जा सकती है। बांदा में शोभा देवी व संतोष तथा चित्रकूट में सूरजकली व राधेश्याम की हेल्पलाइन में ड्यूटी लगाई गयी है। शबीना ने बताया कि हेल्पलाइन के कार्य में स्वयंसेवी संगठन निरंतर, खबर लहरिया, पॉइंट ऑफ व्यू, योमिता फाउंडेशन संतोकबा प्रेमकोरबा चैरिटेबल ट्रस्ट और डा. अश्विनी महाजन, डा. अनुपमा वर्मा व आकाश पटिक विशेष सहयोग दे रहे हैं। हेल्पलाइन पर चार दिनों में 14 महिला हिंसा के मामले लंबे समय तक चले लाकडाउन से लोग मानसिक तनाव महसूस कर रहे हैं। शबीना का कहना है कि आर्थिक व भोजन का संकट भी लोगों को परेशान कर रहा है। हेल्पलाइन पर चार दिनों में 14 मामले महिला हिंसा से संबंधित आए हैं। इसमें महिलाओं ने उनके साथ मारपीट व मानसिक उत्पीड़न की शिकायत की है। ऐसे कुछ मामलों को फोन पर काउंसलिंग कर सुलझाया गया है। कुछ गंभीर मामलों में पुलिस अधीक्षक सहित संबंधित थानों में प्रार्थना पत्र भी दिए गए हैं। टीकाकरण के लिए करवा रहे रजिस्ट्रेशन महिला संस्था वनांगना द्वारा जारी हेल्पलाइन नंबरों पर सर्दी, खांसी, जुकाम व बुखार के मरीजों की काल आ रही हैं। शबीना ने बताया कि इसमें लोगों को निशुल्क जांच व इलाज की जानकारी दी जा रही है। ऐसे लोगों तक संस्था के कार्यकर्ता पहुंचकर उन्हें निजी चिकित्सकों तक ले जाकर आक्सीजन, शुगर, पल्स व तापमान की जांच करवा रहे हैं। साथ ही टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन भी करवा रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल