39ek-bharat-shreshtha-bharat39-campaign-for-three-months-at-eviv
39ek-bharat-shreshtha-bharat39-campaign-for-three-months-at-eviv
उत्तर-प्रदेश

इविवि में तीन माह तक ’एक भारत श्रेष्ठ भारत’ अभियान

news

वाद-विवाद प्रतियोगिता का हुआ आयोजन प्रयागराज, 17 फरवरी (हि.स.)। मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देश से इलाहाबाद विश्वविद्यालय में ’एक भारत श्रेष्ठ भारत’ कार्यक्रम के अंतर्गत तीन माह तक कार्यक्रमों की एक श्रृंखला का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें भारत की विविधता में एकता दर्शाने वाले कार्यक्रम हैं। तीन माह के दौरान विशिष्ट व्याख्यान, काव्य गोष्ठी, वाद-विवाद, तात्कालिक भाषण, पोस्टर निर्माण एवं परिचर्चा आदि के आयोजन अंतर विश्वविद्यालय स्तर पर किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में चतुर्थ कार्यक्रम के आयोजन में वाद-विवाद प्रतियोगिता “युवा व्यक्तित्व के विकास में आधुनिक शिक्षा पूर्णतः सक्षम है” विषय पर आयोजित प्रतियोगिता दो भागों में आयोजित की गई। छात्राओं के वर्ग में इविवि, जगत तारण गर्ल्स डिग्री कालेज, सीएमपी डिग्री कालेज, ईश्वर सरन डिग्री कालेज, आर्य कन्या डिग्री कालेज आदि कालेजों की छात्राओं ने प्रतिभाग किया। छात्राओं ने पक्ष एवं विपक्ष में अपने विचार रखे। निर्णायक मंडल की भूमिका का निर्वहन क्रमशः डॉ.सरोज सिंह सीएमपी डिग्री कालेज, डॉ.गायत्री सिंह ईश्वर सरन डिग्री कालेज, इविवि के डॉ.अमृता एवं डॉ.चितरंजन कुमार ने किया। द्वितीय भाग छात्र वर्ग के लिए आयोजित प्रतियोगिता में इविवि, सीएमपी डिग्री कालेज, ईश्वर सरन डिग्री कालेज, इलाहाबाद डिग्री कालेज आदि के छात्रों ने प्रतिभाग किया। छात्रों ने आधुनिक शिक्षा पद्धति पर एवं उसके विभिन्न आयामों पर अपने-अपने विचार रखे। इस वर्ग की प्रतियोगिता में निर्णायक मंडल की भूमिका का निर्वहन क्रमशः डॉ.कल्पना वर्मा आर्य कन्या डिग्री कालेज, डॉ.रतन कुमारी वर्मा जगत तारन गर्ल्स डिग्री कालेज, इविवि के डॉ.अमृता एवं डॉ.चितरंजन कुमार ने किया। इविवि के नोडल अधिकारी एवं केन्द्रीय सांस्कृतिक समिति के अध्यक्ष प्रो.संतोष भदौरिया ने कर्यक्रम के सम्बंध में प्रकाश डाला। साथ ही उन्होंने कुलपति द्वारा अनुमोदित इस कार्यक्रम को विविध संस्कृतियों को मिलाने वाला बताया। प्रो. भदौरिया ने बताया कि यह कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित किया गया तथा आगे भी ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे। कार्यक्रम का संचालन एवं तकनीकी सहयोग इविवि के हिन्दी अनुवाद अधिकारी हरिओम कुमार ने किया। हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त/संजय-hindusthansamachar.in