बरेका में निर्मित 3000 एचपी केप गेज रेल इंजन मोजाम्बिक को निर्यात

बरेका में निर्मित 3000 एचपी केप गेज रेल इंजन मोजाम्बिक को निर्यात
3000-hp-cape-gauge-locomotive-manufactured-in-bereka-exported-to-mozambique

उपलब्धि, कोरोना संक्रमण काल में ही बरेका में 34 विद्युत रेल इंजन और मोजाम्बिक निर्यात के लिए तीसरे डीजल रेल इंजन का हुआ निर्माण वाराणसी, 09 जून (हि.स.)। कोरोना संक्रमण काल के दूसरी लहर में भी ’बनारस रेल इंजन कारखाना’ ने बड़ी उपलब्धि हासिल की है। जब पूरे देश में व्यापारिक और आर्थिक गतिविधियां ठहर गई थी। उस समय बरेका के कर्मचारी महाप्रबंधक अंजली गोयल के नेतृत्व में कारखाने में प्रोडक्शन के कार्य में निरंतर जुटे रहे। जिसका सुखद परिणाम भी सामने आया है। पिछले वर्ष 08 रेल इंजनों के उत्पादन की तुलना में इस वर्ष के अप्रैल-मई महीने में ही बरेका में 34 विद्युत रेल इंजन और मोजाम्बिक निर्यात के लिए तीसरे डीजल रेल इंजन का निर्माण किया गया। जिसे मोजाम्बिक को भेजा जा रहा है। मोजाम्बिक निर्यात के लिए चौथा रेल इंजन भी बनकर लगभग पूरी तरह से तैयार है। जिसकी टेस्टिंग की जा रही है, इसे भी जल्द ही मोजाम्बिक के लिए रवाना कर दिया जाएगा। बुधवार को यह जानकारी बरेका के जनसम्पर्क अधिकारी राजेश कुमार ने दी। बताया कि टीम की कार्य प्रणाली और मेडिकल टीम के समर्पित देखभाल का नतीजा ये रहा कि कर्मचारी टीका की दूसरी डोज ले चुके थे। जिस कर्मचारी को कोविड हो चुका था। उसके स्वस्थ होने के बाद सभी ने पुनः दृढ निश्चय एवं सावधानी से कार्य जारी रखा। इस समर्पण भाव से ही हम निर्यात ऑर्डर को समय से पूरा कर पा रहे हैं। बरेका इस विपरित परिस्थितियों में भी अपना लक्ष्य पूरा करने के साथ-साथ निर्यात ऑर्डर को समय से पूरा करने के लिए दृढ संकल्पित है। इससे बरेका ही नहीं बल्कि पूरे भारत की प्रतिष्ठा बढ़ेगी। मेक इन इंडिया कार्यक्रम को और प्रोत्साहन मिलेगा। उल्लेखनीय है कि मोजाम्बिक सरकार से 3000 एचपी केप गेज के 06 अत्याधुनिक तकनीक के रेल इंजनों का निर्यात आदेश बरेका को प्राप्त हुआ था। विगत 10 मार्च को 3000 एचपी केप गेज मोजाम्बिक को निर्यात के लिए दो रेल इंजन को हरी झंडी दिखाकर केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल एवं परिवहन और संचार मंत्री, मोजाम्बिक सरकार जनेफर अब्दुलई ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से रवाना किया था। जनसम्पर्क अधिकारी के अनुसार शेष अन्य दो, पांचवा व छठा इंजन को भी शीघ्र बनाकर एक्सपोर्ट ऑर्डर को समय से पूरा कर लिया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/विद्या कान्त