ट्रिपल आईटी प्रयागराज क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में 23वां स्थान

ट्रिपल आईटी प्रयागराज क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में 23वां स्थान
23rd-place-in-triple-it-prayagraj-qs-world-university-rankings

प्रयागराज, 15 जून (हि.स.)। ट्रिपल आईटी प्रयागराज के एसोसिएट डीन रैंकिंग और प्रत्यायन डॉ.सतीश कुमार सिंह ने बताया है कि 2022 क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में भारतीय विश्वविद्यालयों के बीच 23वां स्थान हासिल किया। इस साल भारत से आईआईएससी बैंगलोर, प्रमुख आईआईटी और विशालकाय विश्वविद्यालयों जैसे 35 प्रतिष्ठित संस्थानों को ही इस सूची में जगह मिल सकी है। उन्होंने बताया कि हाल ही में क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2022 को क्वाक्वेरेली साइमंड्स द्वारा जारी किया गया है, जो दुनिया भर में सबसे स्वीकार्य रैंकिंग एजेंसी है। इस वर्ष ट्रिपल आईटी प्रयागराज ने भारतीय विश्वविद्यालयों की क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में स्थान प्राप्त करके पूरे प्रयागराज और उत्तर प्रदेश के लिए एक गौरवपूर्ण क्षण प्रदान किया। डॉ. सिंह ने आगे कहा कि केवल तीन शाखाओं, चार विभागों और लगभग केवल 70 पूर्णकालिक संकाय सदस्यों के दम पर, एक बहुत ही युवा और आईटी उन्मुख संस्थान होने के बावजूद, ट्रिपल आईटी इलाहाबाद ने सभी विश्वविद्यालयों और संस्थानों में जिन्हें क्वाक्वेरेली साइमंड्स द्वारा स्थान दिया गया है, में 23 वां स्थान हासिल करके अपनी पहचान बनाई है। उन्होंने कहा, यदि हम भारत में शीर्ष-स्तरीय इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी आधारित प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और संस्थानों पर विचार करें, तो ट्रिपल आईटी इलाहाबाद को राष्ट्रीय महत्व के सभी संस्थानों (आईएनआई) में 11वें स्थान पर रखा गया है। जिन्होंने इस वर्ष एक रैंक हासिल की है। क्वाक्वेरेली साइमंड्स ने ही ट्रिपल आईटी इलाहाबाद को शोध-आधारित संस्थान के रूप में मान्यता दी। डॉ. सिंह ने आगे बताया कि संस्थान 2017 से लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है और निदेशक प्रो.पी. नागभूषण के नेतृत्व में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी रैंक में सुधार कर रहा है। मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी डॉ. पंकज मिश्र ने बताया कि आईआईआईटी प्रयागराज, जिसे क्यूएस डब्ल्यूयूआर द्वारा 2021 में कम्प्यूटर विज्ञान और सूचना प्रणाली में 501-550 के बैंड में रखा गया था, 2022 में बेहतर प्रदर्शन करने के लिए बहुत आशान्वित है, जिसे क्यूएस द्वारा जारी किया जाना है। हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त

अन्य खबरें

No stories found.