1.97 लाख पंजीकृत श्रमिकों व उनके परिवारों को मिले 46.94 करोड़: सीडीओ
1.97 लाख पंजीकृत श्रमिकों व उनके परिवारों को मिले 46.94 करोड़: सीडीओ
उत्तर-प्रदेश

1.97 लाख पंजीकृत श्रमिकों व उनके परिवारों को मिले 46.94 करोड़: सीडीओ

news

मेरठ, 16 सितम्बर (हि.स.)। मेहनतकश मजदूर की चिंता सरकार ने दूर कर दी है। अब उसकी लाडली को किसी चीज के लिए मोहताज नहीं रहना पड़ेगा। श्रमिक की बेटी को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए मातृत्व षिषु एवं बालिका मदद योजना चलायी जा रही है। मेरठ जनपद के 1.97 लाख पंजीकृत श्रमिकों और उनके परिवारों को 46.94 करोड़ रुपए से ज्यादा का लाभ दिया गया है। मुख्य विकास अधिकारी ईशा दुहन ने बताया कि श्रमिकों की बेटियों की शादी के लिए कन्या विवाह अनुदान योजना चलायी जा रही है। श्रमिकों के हित में उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं में जनपद में वर्तमान सरकार के कार्यकाल में श्रमिकों को लाभ दिया जा रहा है। उपायुक्त श्रम दीप्तिमान भट्ट ने बताया कि वर्तमान प्रदेश सरकार के कार्यकाल में मृत्यु, विकलांगता एवं अक्षमता पेंशन योजना के अन्तर्गत 336 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के आश्रितों को 67700000 रुपए की सहायता दी गई। अन्त्येष्टि सहायता योजना के अन्तर्गत 336 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के आश्रितों को 8270000 रुपए का लाभ पहुंचाया गया। उन्होंने बताया कि कन्या विवाह अनुदान योजना के अन्तर्गत 1553 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को उनकी पुत्री के विवाह हेतु धनराशि 85318000 रुपए से लाभान्वित किया गया। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में मातृत्व, शिशु एवं बालिका मदद योजना के अन्तर्गत 2329 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को धनराशि 27683674 रुपए से लाभान्वित किया गया। मेधावी छात्र पुरस्कार योजना के अन्तर्गत 289 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को 841000 रुपए से लाभान्वित किया गया। संत रविदास शिक्षा सहायता के अन्तर्गत 878 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को 1242850 रुपए की सहायता दी गई। चिकित्सा सुविधा योजना के अन्तर्गत 41028 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को 120567000 रुपए से से लाभान्वित किया गया। आपदा राहत सहायता योजना के अन्तर्गत प्रथम व द्वितीय किश्त सहित 151103 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को धनराशि 151103000 रुपए की सहायता दी गई। सहायता योजना के अन्तर्गत छह पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को धनराशि 300000 रुपए से लाभान्वित किया गया। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के दौरान अन्य राज्यों व जनपदो से आये प्रवासी श्रमिकों को भी स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/कुलदीप/राजेश-hindusthansamachar.in