स्वनिधि योजना : कोरोना से ध्वस्त अर्थव्यवस्था की चुनौती को अवसर में बदला
स्वनिधि योजना : कोरोना से ध्वस्त अर्थव्यवस्था की चुनौती को अवसर में बदला
उत्तर-प्रदेश

स्वनिधि योजना : कोरोना से ध्वस्त अर्थव्यवस्था की चुनौती को अवसर में बदला

news

- स्ट्रीट वेंडर्स की चल पड़ी जिंदगी की गाड़ी, जीवन पथ हुआ आसान - वर्चुअल संवाद कर पीएम मोदी ने सुनी पथ विक्रेताओं की सफलता की कहानी -मीरजापुर नगर 50, कछवां 176, चुनार 10 व अहरौरा में 80 लाभार्थियों को मिला ऋण प्रमाण-पत्र मीरजापुर, 27 अक्टूबर (हि.स.)। स्ट्रीट वेंडर्स शहरी जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा होते हैं। इनके कारण नागरिकों को अनेक तरह के खानपान और छोटी-मोटी वस्तुएं घर के पास मिल जाती हैं। किसी बड़े मॉल या मार्केट का रुख नहीं करना पड़ता है लेकिन कोरोना के चलते सबसे ज्यादा आर्थिक मार व्यवसायियों के किसी वर्ग पर पड़ी तो वे थे रेहड़ी लगाकर फुटपाथ के किनारे फल, सब्जी आदि बेचने वाले या ठेला खड़ाकर चाय-नाश्ता बेचकर व्यवसाय करने वाले लोग। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संकल्प है कि ऐसे छोटे-छोटे व्यवसायियों की परेशानी दूर हो और उन्हें मौका मिले अपने पैरों पर खड़ा होकर आत्मनिर्भर बनने का। ये आत्मनिर्भर बनेंगे तभी भारत आत्मनिर्भर बनेगा। यह बातें मंगलवार को कलेक्ट्रेट परिसर पर आयोजित पीएम मोदी के वर्चुअल संवाद के बाद डीएम सुशील कुमार पटेल ने कही। तत्पश्चात् डीएम ने कुल 50 लाभार्थियों को ऋण प्रमाण-पत्र वितरित किया। साथ ही कहा कि पीएम स्वनिधि योजना ने कोरोना से ध्वस्त अर्थव्यवस्था की चुनौती को अवसर में बदला है। ईओ ओमप्रकाश ने बताया कि स्वनिधि के अंतर्गत 5067 लोगों ने आवेदन किया था। 2958 लोगों का लोन सेंशन हुआ और अब तक करीब 2355 स्वीकृत किए जा चुके हैं। इस दौरान एडीएम यूपी सिंह, एसपी अजय कुमार सिंह, नगर मजिस्ट्रेट जगदंबा सिंह आदि रहे। समय पर ऋण चुकाने पर मिलेगा दोगुना प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना में पथ विक्रेताओं को छोटे-छोटे काम-धंधे के लिए बिना सुरक्षा लिए बैंकों से 10 हजार रुपये तक की कार्यशील पूंजी व ब्याज अनुदान दिया जा रहा है। योजना में प्रावधान है कि डिजिटल ट्रांजेक्शन करने पर प्रतिवर्ष 1200 रुपये की अतिरिक्त राशि और समय पर ऋण चुकाने पर अगले वर्ष 20 हजार रुपये की कार्यशील पूंजी उपलब्ध करवाई जाएगी। जैसे-जैसे वे अपना कार्य आगे बढ़ाएंगे, सरकार उनकी मदद बढ़ाएगी और वे आत्मनिर्भर होते चले जाएंगे। मझवां विधायक सुचिस्मिता मौर्य ने वितरित किया ऋण प्रमाण-पत्र कछवां नगर पंचायत के पंडित रामकिंकर उपाध्याय उद्यान परिसर पर मझवां विधायक सुचिस्मिता मौर्य ने प्रधानमंत्री के वर्चुअल संवाद में प्रतिभाग किया। इसके बाद चिंहित 176 पथ विक्रेताओं को पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत ऋण प्रमाण पत्र वितरण किया। इसमें प्रदीप कुमार, शिव प्रसाद विश्वकर्मा, मंगला, बालनाथ, सुरेश प्रसाद, शलमा बेगम, गिरजा देवी, मेनका देवी आदि लाभार्थी शामिल रहे। 10 रेहड़ी-पटरी विक्रेताओं को मिला स्वीकृति प्रमाण पत्र चुनार नगर पालिका परिषद के लाइब्रेरी क्लब हाल में पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना के लाभार्थियों ने पीएम के आभासी संवाद कार्यक्रम को सुना। इस दौरान बुल्लू साहनी, रुक्मीना, लक्ष्मण व विक्की समेत 10 रेहड़ी-पटरी विक्रेताओं को चेयरमैन मंसूर अहमद, तहसीलदार अरुण कुमार गिरि, सीओ सुशील कुमार यादव, एक्सईएन मनीष कुमार झा व ईओ प्रतिभा सिंह ने ऋण स्वीकृति प्रमाण पत्र दिया। ईओ ने बताया कि 394 आवेदनों में 337 का सर्वे कराकर ऋण स्वीकृति के लिए बैंकों को संस्तुत किया गया है। 138 लाभार्थियों के खाते में लोन का पैसा आ चुका है। मौके पर पूर्व पालिकाध्यक्ष अहरौरा निर्मला सिंह आनंद, आरआई अजीत कुमार, नगर अध्यक्ष भाजपा चंद्रहास गुप्ता, विजय बहादुर सिंह, नंदलाल केशरी, सभासद विक्रम यादव, सूर्यबली यादव, राजू यादव आदि थे। अहरौरा में 80 पटरी व्यवसायी हुए लाभान्वित पीएम स्ट्रीट वेंडर्स आत्मनिर्भर निधि योजना के अंतर्गत प्रधानमंत्री के वर्चुअल संवाद के बाद नपा कार्यालय अहरौरा पर चेयरमैन गुलाब मौर्या ने 80 लाभार्थियों को स्वीकृत ऋण प्रमाण पत्र वितरित किया। इसमें पांच महिलाएं भी शामिल थीं। ईओ विनय कुमार तिवारी ने बताया कि 312 लोगों ने आवेदन किया था जिन्हें ऋण स्वीकृत किया गया है। इसमें तीस महिला पथ विक्रेता भी शामिल हैं। हिन्दुस्थान समाचार/गिरजा शंकर/दीपक-hindusthansamachar.in

AD
AD