-स्वच्छता सर्वेक्षण 2020ः रैंकिंग में छह पायदान  नीचे खिसका गाजियाबाद
-स्वच्छता सर्वेक्षण 2020ः रैंकिंग में छह पायदान नीचे खिसका गाजियाबाद
उत्तर-प्रदेश

-स्वच्छता सर्वेक्षण 2020ः रैंकिंग में छह पायदान नीचे खिसका गाजियाबाद

news

-मुरादनगर नगर पालिका परिषद ने लाज बचाई , निराश मेयर ने कहा कि पहले से ही था मालूम कि हम पिछडे़ंगे गाजियाबाद,20अगस्त (हि.स.)। स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 दिल्ली एनसीआर के प्रमुख महानगर गाजियाबाद के निराशाजनक रहा। इस स्वच्छता सर्वेक्षण में गाजियाबाद नगर निगम की रेंकिंग छह पायेदान नीचे फिसल गई। रेंकिंग में गाजियाबाद को इस बार 19वां स्थान मिला है जबकि 2019 के स्वच्छता सर्वेक्षण में गाजियाबद को 13वां स्थान मिला था। हालांकि मुरादगर नगर पालिका परिषद ने प्रथम स्थान प्राप्त कर जनपद की जान बचा ली। मेयर आशा शर्मा काफी खिन्न हैं और उन्होंने एक बयान में कहा है कि गाजियाबाद के फिसलने का प्रमुख कारण यहां डंपिंग ग्राउंड का न होना है। अब नगर निगम के नगर आयुक्त के साथ मिलकर बेहतर कार्य करने का भरपूर प्रयास किया जाएगा। स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में नगर निगम गाजियाबाद को राष्ट्रीय स्तर पर 19 वा स्थान एवं प्रदेश में 3 स्थान प्राप्त हुआ है । नजीते घोषित होने के बाद मेयर आशा शर्मा ने इसको लेकर बयान जारी किया है जिसमें उन्होंने कहा है कि इस परिणाम में गाजियाबाद को उचित स्थान प्राप्त नहीं हो सका इसका महत्वपूर्ण कारण यह है कि नेशनल हरित प्राधिकरण (एनजीटी) के आदेश पर प्रताप विहार डंपिंग ग्राउंड बंद कर दिया गया जिससे कूड़े का निस्तारण ना हो पाने के कारण गाजियाबाद स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में उच्च स्थान प्राप्त नहीं कर सका । आशा शर्मा ने कहा है कि उन्हें पहले से ही लग रहा था कि इस अवस्था में हम और आगे नहीं बढ़ रहे हैं बल्कि कुछ ना कुछ नीचे ही जाएंगे। इसीलिए मुझे पत्र के माध्यम से मुख्य सचिव से सहायता लेनी पड़ी तब जाकर तेजी से कार्य शुरू हुआ था। उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि हम रैंक के लिए कार्य ना करें बल्कि स्वच्छता 24 गुणा 7 होनी चाहिए और स्वच्छता पर स्थाई कार्य करना चाहिए क्योंकि टेंपरेरी कार्य से हम पैसा ही खराब करते हैं। अब इसको लेकर नए नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर से विचार विमर्श किया जाएगा और और महनत की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/फरमान अली-hindusthansamachar.in