सूबे की सरकार में प्लास्टिक सिटी को विकसित की जाने की मांग
सूबे की सरकार में प्लास्टिक सिटी को विकसित की जाने की मांग
उत्तर-प्रदेश

सूबे की सरकार में प्लास्टिक सिटी को विकसित की जाने की मांग

news

औरैया, 10 अक्टूबर (हि.स.)। कई वर्षों से लंबित पड़ी प्लास्टिक सिटी परियजना को विकसित किए जाने की सुगबुगाहट आने लगी है। इसको लेकर प्रदेश सरकार के उच्चाधिकारियों ने केंद्र सरकार से इसे विकसित करने की सहमति मांगी है। इस संबंध में अपर मुख्य सचिव अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आलोक कुमार ने केंद्र सरकार के रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय में रसायन एवं पेट्रोकेमिकल विभाग के सचिव को पत्र लिखा है, जिसमें कहा गया कि औरैया जनपद में दिबियापुर के पास गेल एवं एनटीपीसी के संयंत्र स्थिति है। प्लास्टिक उद्योग के लिए कच्चा माल गेल एवं एनटीपीसी की इकाई से सुगमता से उपलब्ध होगा। जिसके चलते वर्ष 2013-14 में तत्कालीन सरकार ने करीब 274 एकड़ भूमि में प्लास्टिक सिटी स्थापित किए जाने का निर्णय लिया था। प्लास्टिक के रखरखाव एवं क्रियान्वयन के लिए 31 जुलाई 2015 को एस ए वी पी प्लास्टिक सिटी डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड का गठन किया गया परंतु केंद्र सरकार की स्वीकृति न मिलने के चलते यह परियोजना अधर में लटकी हुई है। पत्र में यह भी कहा गया इस संबंध में गेल से बातचीत हो गई है पुलिस प्रशासन एवं जिला प्रशासन द्वारा वहां स्थापित की गई चौकी में फोर्स तैनात किया गया है। बताते चलें कि, प्लास्टिक सिटी को चालू कराए जाने के लिए सपा सरकार में प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हर संभव कोशिश की। इसके लिए उन्होंने एक आईएएस अधिकारी को विशेष जिम्मेदारी भी दी थी। जो इसे स्पेशल रूप में देख रहे थे यहां तक की उन्हें इसका प्रशिक्षण दिलाने के लिए बाहर भी भेजा गया था। लेकिन प्लास्टिक सिटी परियोजना चालू नहीं हो सकी। जिला प्रशासन ने तमाम बेरोजगारों को रोजगार दिलाया जाने के लिए यूपीएसआईडीसी के साथ बैठके भी की। वही, दूसरी ओर यूपीएसआईडीसी ने यहां के बेरोजगारों को उद्योग स्थापित करने के लिए छोटे छोटे भूखंड आवंटन करने के नाम पर पैसा भी जमा करवाया बेरोजगारों को ना तो भूमि आवंटित की गई और ना ही प्लास्टिक सिटी का कार्य चालू हो सका है। काम तो मिला नहीं उल्टे बेरोजगारों का पैसा भी फस गया। जिससे बेरोजगारों के सामने और गंभीर समस्या खड़ी हो गई। अब देखते हैं प्रदेश की भाजपा सरकार इसे कहां तक ले जाती है। हिन्दुस्थान समाचार / सुनील-hindusthansamachar.in