श्री राधारानी का प्राकट्योत्सव उल्लास के साथ मनाया गया, कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना
श्री राधारानी का प्राकट्योत्सव उल्लास के साथ मनाया गया, कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना
उत्तर-प्रदेश

श्री राधारानी का प्राकट्योत्सव उल्लास के साथ मनाया गया, कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना

news

-भगवान श्रीकृष्ण की अंतरंगा शक्ति व माता लक्ष्मी स्वरूपा माता रानी को लगा छप्पन व्यंजनों का भोग वाराणसी, 26 अगस्त (हि.स.)। बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में बुधवार को नटवर नागर भगवान श्री कृष्ण के अंतरंगा शक्ति व माता लक्ष्मी स्वरूपा श्री श्री राधारानी का प्राकट्योत्सव उल्लास के साथ मनाया गया। भाद्रपद के शुक्लपक्ष के अष्टमी तिथि पर राधारानी के जन्मोत्सव पर हरे कृष्ण हरे राम संकीर्तन सोसायटी की ओर से श्री श्री राधा कृष्ण के तैलचित्रों के साथ श्री नरसिंह देव भगवान के विग्रहों का भी श्रृगार किया गया। इस मौके पर तुलसी आरती, गौर आरती, नरसिंह आरती के साथ राधा रानी के प्रशंसा में भजनों के बीच छप्पन व्यंजनों का भोग अर्पित किया गया। माता रानी से कोरोना से मुक्ति की प्रार्थना की गई। सोसायटी के पदाधिकारी राघवेंद्र प्रभु ने बताया कि जिस प्रकार भगवान कृष्ण पूर्ण है। उसी तरह से श्री राधा रानी भी पूर्ण है। श्री राधा रानी भगवान श्री कृष्ण की अंतर्धारा है। वैष्णव आचार्य मान्यता रखते हैं कि अगर परम पुरुष ईश्वर पुरुष है। तो वह भगवान श्री कृष्णा है और यदि परम पुरुष स्त्री हैं तो वह है श्री राधा रानी जी। श्री राधा रानी के बहुत सारे नामों में श्री राधे ' श्री लाडली सरकार ' श्री रूप रंगिली 'श्री नित्य किशोरी श्री निकुंजेश्वरी बहुत प्रसिद्ध हैं। उन्होंने बताया कि श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के ठीक 15 दिनों के बाद यह आयोजन वैष्णव जनों द्वारा किया जाता रहा है। चूंकि इस वर्ष वैश्विक महामारी कोविड-19 की वजह से शासन-प्रशासन द्वारा तमाम सार्वजनिक आयोजनों पर पूर्णतः रोक लगाया गया है, इसी को ध्यान में रखते हुए सोसायटी द्वारा प्रशासनिक निर्देशों का पालन करते हुए कार्यक्रम को सांकेतिक रूप से मनाया गया। उन्होंने बताया कि संपूर्ण कार्यक्रम रजनी माता के सानिध्य में और बड़े प्रभु गोपी के मार्गदर्शन में संपन्न किया गया। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in