शाहजहांपुर में फसल अवशेष प्रबन्धन के लिए होगी फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना
शाहजहांपुर में फसल अवशेष प्रबन्धन के लिए होगी फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना
उत्तर-प्रदेश

शाहजहांपुर में फसल अवशेष प्रबन्धन के लिए होगी फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना

news

शाहजहांपुर, 22 सितम्बर (हि.स.)। शाहजहांपुर में फसल अवशेष प्रबन्धन के लिए सहकारी गन्ना विकास समिति रोजा, पुवायां तथा किसान सहकारी चीनी मिल तिलहर एवं पुवायां में फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना की जा रही है। जिला गन्ना अधिकारी डॉ. खुशीराम भार्गव ने बताया है कृषकों द्वारा धान एवं गेंहू के सीजन में कटाई एवं मडाई के बाद फसल अवशेष को जला दिये जाते है। जिसके कारण वातावरण प्रदूषित होने के साथ-साथ मिट्टी की पोषक तत्वों की अत्यधिक क्षति होती है तथा मिट्टी के भौतिक स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। उन्होंने बताया कि उच्चतम न्यायालय तथा राष्ट्रीय हरित अधिकरण द्वारा फसलों के अवशेष जलाने पर प्रतिबन्ध लगाने से फसल अवशेषों का सामयिक प्रबंधन अति आवश्यक है। उच्चतम न्यायालय द्वारा कृषक सहकारी समितियों, गन्ना समितियों तथा पंचायतों को फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना तथा फसल अवशेष प्रबंधन के यंत्र कृषकों उपलब्ध कराने के निर्देश दिये है। डीसीओ ने बताया कि फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना का मुख्य उद्देष्य पराली जलाने की घटनाओं पर रोक लगाने, वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने तथा भूमि की उर्वरा शक्ति में वृद्धि, सिंचाई, जल की बचत एवं भूगर्भ जल स्तर में सुधार करना तथा कम लागत में अधिक उत्पादन उत्पादकता प्राप्त करना है। फार्म मशीनरी बैक के तहत जनपद की सहकारी गन्ना विकास समिति रोजा, पुवायां तथा किसान सहकारी चीनी मिल तिलहर एवं पुवायां में फार्म मशीनरी बैंक की स्थापना की जा रही है। जहां से किसान फसल प्रबंधन के लिए ट्रैश मल्चर एवं एमपी प्लाऊ किराये पर ले सकेंगे। यन्त्रों का रख-रखाव गन्ना समितियां तथा सहकारी चीनी मिलें द्वारा किया जाएगा। जिला गन्ना अधिकारी ने बताया कि ट्रेश मल्चर जैसे यंत्र चीनी मिलों एवं गन्ना समितियों पर आसानी से मिलने से फसलों के अवषेष प्रबन्धन में मद्द मिलेगी। ट्रैश मल्चर कृषि यन्त्र पुआल को काटने में काफी सहायक है। यह धान के पुआल को टुकडों में काट देता है। फसल अवशेष जल्दी सड़ जाते है तथा खेत में मिलकर भूमि को उपजाऊ बनाते है। हिन्दुस्थान समाचार/अमित/दीपक-hindusthansamachar.in