शहरी क्षेत्र में परिवार नियोजन के प्रति लोगों का बढ़ा रुझान
शहरी क्षेत्र में परिवार नियोजन के प्रति लोगों का बढ़ा रुझान
उत्तर-प्रदेश

शहरी क्षेत्र में परिवार नियोजन के प्रति लोगों का बढ़ा रुझान

news

- पिछले दो वर्षों में हर वर्ष 29 प्रतिशत लाभार्थियों की बढ़ोत्तरी झांसी, 16 अक्टूबर(हिं.स.)। परिवार नियोजन के प्रति शहरी क्षेत्र के लोगों की रुझान बढ़ी है। वर्ष 2018-19 व 2019-20 के आंकड़ें दर्शाते है कि शहरी क्षेत्र में इन दोनों वर्ष में परिवार नियोजन के साधन अपनाने में 29 प्रतिशत लाभार्थी बढ़े हैं। परिवार नियोजन के नोडल अधिकारी डा. एनके जैन ने कहा कि वर्तमान में कोरोना संकट से लोग जूझ रहे है, ऐसे में जनसंख्या विस्फोट भी एक ऐसा संकट है जिसके लिए लोगों को जागरूक रहना चाहिए। यह बहुत खुशी की बात है कि शहरी क्षेत्र में परिवार नियोजन के प्रति लोगों की भागीदारी बढ़ी है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2018-19 में अप्रैल से मार्च तक 8581 लाभार्थी थे जो वर्ष 2019-20 में अप्रैल से मार्च तक में बढ़कर 11074 हो गए। वर्ष 2020 अप्रैल से कोविड के कारण स्थितियों में थोड़ा बदलाव हुआ है लेकिन अब परिवार नियोजन से संबन्धित सुविधाएं पुनः शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर दी जा रही है। शहरी स्वास्थ्य समन्वयक जिया-उर-रहमान ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के संचालन के लिए स्वास्थ्य विभाग पोपुलेशन सर्विसेस इंटरनेशनल (पीएसआई) के साथ मिलकर कार्य कर रही है। इसका ही परिणाम है कि शहरी क्षेत्र के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर शत प्रतिशत निश्चित दिन सेवाएँ दी जा रही हैं, वहीँ शत - प्रतिशत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर आईयूसीडी किट उपलब्ध हैं। पीएसआई के प्रतिनिधि अशोक भारती ने बताया कि वर्ष 2018 से ही जनपद में टीसीआईएचसी (द चेलेंज इनिशिएटिव फॉर हेल्दी सिटीज) कार्यक्रम के अंतर्गत शहरी क्षेत्र में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए कार्य किया जा रहा है। इसके तहत परिवार नियोजन पर विशेष रूप से ध्यान दिया जा रहा है। झाँसी की इस उपलब्धि के लिए पीएसआई की तरफ से मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सम्मानित भी किया गया है। शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो पर मिलने वाली सुविधाएं गर्भनिरोधक गोलियां, कंडोम, पीपीआईयूसीडी, आईयूसीडी, अंतरा इंजेक्शन, छाया गोली आदि सुविधायें लोगों को देने के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर सरकार द्वारा व्यबस्थायें की गईं हैं। हिन्दुस्थान समाचार/महेश/मोहित-hindusthansamachar.in