वीर अब्दुल हमीद का 55वां शहादत दिवस पैतृक गांव धामपुर में मनाया गया
वीर अब्दुल हमीद का 55वां शहादत दिवस पैतृक गांव धामपुर में मनाया गया
उत्तर-प्रदेश

वीर अब्दुल हमीद का 55वां शहादत दिवस पैतृक गांव धामपुर में मनाया गया

news

गाजीपुर, 10 सितम्बर (हि.स.)। वर्ष 1965 के भारत और पाकिस्तान के बीच हुए भीषण युद्ध में अदम्य साहस पराक्रम और वीरता का अद्भुत प्रदर्शन करने वाले परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद का 55वां शहादत दिवस गुरुवार को उनके पैतृक गांव धामुपुर स्थित शहीद पार्क में मनाया गया। इस दौरान वैश्विक महामारी कोरोना कोविड के तहत सामाजिक दूरी का पालन करते हुए जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य के साथ तमाम अधिकारियों व सेना के जवानों के साथ ही स्थानीय लोगों ने वीर सपूत की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य ने कहा कि अब्दुल हमीद महज धामुपुर या गाजीपुर के ही नहीं बल्कि पूरे देश के सच्चे सपूत रहे हैं। जिन्हें आज पूरा देश नमन कर रहा है। अपनी अदम्य साहस और वीरता का परिचय देते हुए पाकिस्तान को अमेरिका से मिले सात पैटर्न टैंक को ही नहीं ध्वस्त किया, बल्कि समूचे विश्व में भारत का गौरव बढ़ाने का काम किया। आज इस सपूत की शहादत दिवस पर समूचा राष्ट्र नमन करता है। इस अवसर पर उनके साथ मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्ता, उप जिलाधिकारी सूरज यादव, खंड विकास अधिकारी संदीप श्रीवास्तव सहित शहीद के परिजन जैनुल अहमद मौजूद रहे। वहीं सेना के 39 जीटीसी कंपनी के तरफ से सेना के जवानों ने पुष्प चक्र अर्पित कर शहीदों को सलाम किया। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीराम/दीपक-hindusthansamachar.in