विद्युत व्यवस्था में सुधार के लिए कर्मचारी संगठन भी जुटे, उपभोक्ता मित्र एप बनाने पर जोर
विद्युत व्यवस्था में सुधार के लिए कर्मचारी संगठन भी जुटे, उपभोक्ता मित्र एप बनाने पर जोर
उत्तर-प्रदेश

विद्युत व्यवस्था में सुधार के लिए कर्मचारी संगठन भी जुटे, उपभोक्ता मित्र एप बनाने पर जोर

news

-ट्रांसफामरों के क्षतिग्रस्तता को रोकने के लिए व्याख्यान वाराणसी, 16 अक्टूबर (हि.स.)। विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उप्र अब विद्युत व्यवस्था में सुधार के लिए तैयार है। पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड के प्रस्तावित विघटन एवं निजीकरण के विरोध में आन्दोलन के दौरान सरकार से सकारात्मक बातचीत के बाद समिति के पदाधिकारियों और सदस्यों ने वर्तमान व्यवस्था में ही संयुक्त प्रयास से सुधार का निर्णय लिया है। शुक्रवार को समिति के प्रदेश केन्द्रीय पर्यवेक्षक ई.ए.के. सिंह, ई. प्रभात सिंह एवं ई.जी.बी. पटेल की उपस्थिति में पूर्वांचल डिस्काम मुख्यालय पर आयोजित संगोष्ठी में विद्युत व्यवस्था सुधार पर चर्चा हुई। बैठक में बेहतर उपभोक्ता सेवा, राजस्व वसूली में वृद्धि, ट्रांसफामरों के क्षतिग्रस्तता को रोकने के उपाय पर जोर दिया गया। बैठक में उपभोक्ताओं के सुविधा के लिए उपभोक्ता मित्र ऐप बनाने, उपभोक्ताओं को प्रतिमाह सही बिल उपलब्ध कराने, एटीएनसी हानियों को कम करने, फीडरों पर वास्तविक उपभोक्ताओं की टैगिंग कराने और उसके अनुसार शत प्रतिशत राजस्व वसूली करने, टोल फ्री न0 1912को और सुदृढ़ बनाने,ग्रामीण क्षेत्रों में लो वोल्टेज की समस्या का निस्तारण की कार्ययोजना बनाने पर जोर दिया गया। इसकी विस्तृत योजना उर्जा मंत्री को सोंपने की बात भी कही गई। कर्मचारी नेताओं ने कहा कि संघर्ष समिति टेल एंड उपभोक्ता से फीडबैक लेगी और सभी से अपील करेगी कि सभी लोग हर महीने अपना बिजली बिल जमा करें जिससे व्याज से मुक्त हो सके। साथ ही ग्राम प्रधानों एवं जनप्रतिनिधियों से बेहतर उपभोक्ता सेवा और बेहतर राजस्व वसूली के लिए संवाद स्थापित करने की बात कही गई। संगोष्ठी में चन्द्रशेखर चौरसिया, संजय भारती, आर0बी0 सिंह, मायाशंकर तिवारी, ए0के0 श्रीवास्तव, राजेन्द्र सिंह, विरेन्द्र सिंह, रमन श्रीवास्तव, रमाशंकर पाल, हेमन्त श्रीवास्तव आदि कर्मचारी नेताओं ने प्रतिभाग किया। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in