विदेशी निवेश आकर्षित करने वर्चुअल रोड-शो हुआ सफल, उप्र में आयेगा माइक्रोसाफ्ट कैम्पस
विदेशी निवेश आकर्षित करने वर्चुअल रोड-शो हुआ सफल, उप्र में आयेगा माइक्रोसाफ्ट कैम्पस
उत्तर-प्रदेश

विदेशी निवेश आकर्षित करने वर्चुअल रोड-शो हुआ सफल, उप्र में आयेगा माइक्रोसाफ्ट कैम्पस

news

-माइक्रोसाफ्ट इण्डिया ने यूपी में विश्वस्तरीय टेक्नालाॅजी हब बनाने के लिए दी सहमति -कंपनी ग्रेटर नोएडा में 4000 लोगों की क्षमता का कैम्पस करेगी स्थापित -राज्य सरकार माइक्रोसाफ्ट कंपनी को कैम्पस की स्थापना के लिए रेड कारपेट की देगी सुविधा-सिद्धार्थ नाथ सिंह लखनऊ, 29 जून (हि.स.)। प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, निवेश एवं निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ के दिशा-निर्देश पर यूपी में विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए किये गये वर्चुअल रोड-शो को बड़ी सफलता मिली है। प्रबंध निदेशक एवं कारपोरेट प्रेसिडेंट, माइक्रोसाफ्ट इण्डिया राजीव कुमार ने उत्तर प्रदेश में विश्वस्तरीय टेक्नालाॅजी हब बनाने के लिए अपनी सहमति व्यक्त करते हुए कहा कि कंपनी ग्रेटर नोएडा में 4,000 लोगों की क्षमता का कैम्पस स्थापित करेगी। सिद्धार्थ नाथ सिंह सोमवार को वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से राजीव कुमार और उनकी टीम के साथ चर्चा कर रहे थे। निवेश प्रोत्साहन मंत्री ने राजीव कुमार से कहा कि कैम्पस के निर्माण हेतु पर्याप्त मात्रा में भूमि उपलब्ध है, वे जब चाहें भूमि का विजिट कर सकते हैं। निवेश प्रोत्साहन मंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में निवेशकर्ताओं को हर सम्भव सहयोग और सुविधाएं मुहैया कराने की व्यवस्था की है। उत्तर प्रदेश में माइक्रोसाफ्ट कंपनी को कैम्पस की स्थापना के लिए राज्य सरकार रेड कारपेट की सुविधा देगी। उन्होंने कहा इस कैम्पस की स्थापना से भारत को इलेक्ट्रानिक हब बनाने की दिशा में उत्तर प्रदेश बहुत बड़ा मददगार साबित होगा। साथ ही प्रदेश तकनीकी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण उपलब्धि प्राप्त होगी। उन्होंने कहा कि माइक्रोसाफ्ट कैम्पस की स्थापना से उत्तर प्रदेश तकनीकी के क्षेत्र में आत्मर्निभरता की ओर तेजी से अग्रसर होगा और यहां के युवा तकनीकी क्षेत्र में दक्ष होकर उत्तर प्रदेश का गौरव बढ़ायेंगे। सिद्धार्थ नाथ सिंह ने राजीव कुमार से कहा कि राज्य सरकार जेवर एअरपोर्ट के निकट इलेक्ट्रानिक सिटी स्थापित कर रही है। इस सिटी में स्थापित होने वाली इकाइयों को सभी आवश्यक सुविधाएं सुलभ कराने के लिए राज्य सरकार दृढ़ संकल्पित है। प्रदेश में इलेक्ट्रानिक सिटी के विकास की अपार संभावनाएं होने के कारण सरकार ने इस क्षेत्र को प्रमुखता प्रदान की है। टीसीएस, विप्रो, हायर जैसी कंपनियां नोएडा-ग्रेटर नोएडा में अपना उद्यम स्थापित कर रही हैं। राजीव कुमार ने प्रदेश सरकार के इन कदमों की सराहना करते हुए कहा कि कि शीघ्र ही भूमि के लिए कम्पनी की टीम विजिट करेगी और जल्द से जल्द कैम्पस निर्माण की प्रकिया शुरू कराई जायेगी। उन्होंने कहा कि हैदराबाद तथा बैंगलुरू में माइक्रोसाफ्ट कंपनी के पास क्रमशः 5000 एवं 2000 की क्षमता का कैंपस है। कंपनी उत्तर भारत में टेक्नालाॅजी हब बनाना चाहती है। इसके लिए ग्रेटर नोएडा-नोएडा को चुना गया है। इस मौके पर औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन एवं अपर मुख्य सचिव, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम डॉ. नवनीत सहगल भी चर्चा में शामिल थे। हिन्दुस्थान समाचार/संजय/राजेश-hindusthansamachar.in