विजिलेंस जांच में कोतवाली मुगलसराय अवैध वसूली लिस्ट की पुष्टि
विजिलेंस जांच में कोतवाली मुगलसराय अवैध वसूली लिस्ट की पुष्टि
उत्तर-प्रदेश

विजिलेंस जांच में कोतवाली मुगलसराय अवैध वसूली लिस्ट की पुष्टि

news

लखनऊ, 16 अक्टूबर (हि.स.)। सतर्कता अधिष्ठान ने आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर द्वारा वायरल की गयी थाना कोतवाली मुगलसराय, चन्दौली की कथित वसूली लिस्ट को सही पाया है। 25 सितम्बर 2020 को लिस्ट वायरल होने के बाद शासन ने 26 सितम्बर को सतर्कता अधिष्ठान को तत्काल मामले की जांच कर रिपोर्ट देने को कहा था। इस पर सतर्कता अधिष्ठान के संयुक्त निदेशक एल आर कुमार को जांच सौंपी गयी। श्री कुमार ने जांच के बाद अपनी रिपोर्ट में पूर्व इंस्पेक्टर मुगलसराय शिवानन्द मिश्र तथा उनके स्टाफ व तीन-चार अज्ञात व्यक्तियों द्वारा अवैध वसूली किये जाने की पुष्टि की। जांच से अवैध वसूली से प्राप्त वास्तविक धनराशि का आकलन नहीं हो सका। हालांकि वायरल लिस्ट के क्रम संख्या 1 से 20 में अंकित व्यक्तियों द्वारा मुगलसराय क्षेत्र में विभिन्न अवैध गतिविधियां करने तथा उनके द्वारा थाने को इसके लिए पैसा देने की बात प्रमाणित हुई। यह बात भी सामने आई कि मुख्य आरक्षी अनिल सिंह ने 06 माह पूर्व ही एसपी चंदौली को अवैध वसूली की लिस्ट उपलब्ध करायी थी। लेकिन, एसपी चंदौली ने इस संबंध में कोई कार्यवाही नहीं की थी। अमिताभ द्वारा लिस्ट ट्वीट करते हुए कहा था कि इस हैण्डरिटेन लिस्ट से टोटल प्रति माह की वसूली 35.64 लाख के अलावा 15 व्यक्तियों से अवैध खनन से 12,500 रुपये प्रति वाहन तथा पडवा कट्टा का काम करने वाले कबाड़ी से 4,000 रुपये प्रति वाहन होता है। इसमें गांजा दुकान का 25 लाख भी शामिल है। उन्होंने इन तथ्यों की गहन जांच की मांग की थी। हिन्दुस्थान समाचार/संजय-hindusthansamachar.in