वाराणसी बाईपास के लिए हो रहे ध्वस्तीकरण के खिलाफ याचिका खारिज
वाराणसी बाईपास के लिए हो रहे ध्वस्तीकरण के खिलाफ याचिका खारिज
उत्तर-प्रदेश

वाराणसी बाईपास के लिए हो रहे ध्वस्तीकरण के खिलाफ याचिका खारिज

news

प्रयागराज, 22 सितम्बर (हि.स.)। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने वाराणसी बाईपास के लिए हो रहे ध्वस्तीकरण के खिलाफ दाखिल याचिका पर हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया है। कोर्ट ने कहा है कि ऐसे मामले में भूमि स्वामित्व का मामला तथ्य का विषय है, जिस पर हाईकोर्ट में याचिका उचित फोरम नहीं है। याची कानून के तहत इस मामले में भूमि स्वामित्व को लेकर उचित कार्रवाई कर सकता है। यह आदेश न्यायमूर्ति एस पी केशरवानी तथा न्यायमूर्ति जयंत बनर्जी की खंडपीठ ने मनोज सोनकर व 42 अन्य की याचिका को खारिज करते हुए दिया है। याचियों का कहना था कि बिना मुआवजा दिये उनके निर्माण ढहाये जा रहे हैं। राज्य सरकार के स्थाई अधिवक्ता ने कहा कि याचियों का अवैध कब्जा है। जमीन डिफेन्स की है। उस जमीन पर 80 लोगों का अवैध कब्जा पाया गया है। 10 लोगों ने मलबा का मुआवजा लेने पर सहमति दी है। भू स्वामित्व न होने के कारण भूमि का मुआवजा नहीं दिया जा सकता। कोर्ट ने इस कारण इस मामले में हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया है। हिन्दुस्थान समाचार/आर.एन/संजय-hindusthansamachar.in