वाराणसी के 230 सहायक अध्यापकों को मिला नियुक्ति पत्र, खिले चेहरे
वाराणसी के 230 सहायक अध्यापकों को मिला नियुक्ति पत्र, खिले चेहरे
उत्तर-प्रदेश

वाराणसी के 230 सहायक अध्यापकों को मिला नियुक्ति पत्र, खिले चेहरे

news

-जौनपुर के 1600 शिक्षकों को भी मिला नियुक्ति पत्र, -मुख्यमंत्री ने वाराणसी की नव नियुक्त शिक्षक रिशा कुमारी से किया संवाद वाराणसी,16 अक्टूबर (हि.स.)। वाराणसी के परिषदीय विद्यालयों में 230 सहायक अध्यापकों की नियुक्ति हुई है। शुक्रवार को कमिश्नरी सभागार और हरहुआ विकासखंड के कोईराजपुर स्थित निजी विद्यालय में आयोजित कार्यक्रम में सभी चयनित अध्यापकों को प्रदेश के खेल, युवा कल्याण एवं पंचायती राज राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेन्द्र तिवारी ने नियुक्ति पत्र दिया। नियुक्ति पत्र पाते ही अध्यापकों के चेहरे से खुशी से खिल गये। कमिश्नरी सभागार में राज्यमंत्री ने सोनल चतुर्वेदी, रिशा कुमारी, मनोज कुमार, प्रियंका सिंह एवं शशांक सिंह को नियुक्ति पत्र उपलब्ध कराकर उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। इस दौरान उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ की सरकार के नेतृत्व में प्रदेश उत्तम प्रदेश की ओर अग्रसर है, हर क्षेत्र में सुधार आया है। शिक्षा के क्षेत्र में व्यापक स्तर पर सुधार हुआ है। उन्होंने बेसिक शिक्षा में हुए सुधार का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रदेश की 159000 प्राथमिक विद्यालयों में पहले एक करोड़ 34 लाख बच्चे शिक्षारत रहे, किंतु वर्तमान में इन्हीं विद्यालयों में बच्चों की संख्या बढ़कर एक करोड़ 80 लाख हो गई है। 50 लाख बच्चों की संख्या बड़ी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की हमेशा सोच रही है कि प्राथमिक विद्यालय का स्तर एवं शिक्षा व्यवस्था कान्वेंट विद्यालयों से ऊपर हो। उत्तर प्रदेश की सरकार देश की पहली ऐसी सरकार है, जिसने प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों को निःशुल्क ड्रेस, जूता-मोजा, स्वेटर आदि उपलब्ध कराया। कॉन्वेंट विद्यालयों के बच्चों से से अच्छा ड्रेस प्राथमिक विद्यालयों के बच्चों को सरकार निःशुल्क उपलब्ध करा रही है। राज्यमंत्री ने कोईराज पुर में जौनपुर के 1600 नवनियुक्त चयनित सहायक अध्यापकों को भी नियुक्ति पत्र उपलब्ध कराया। इसके पहले प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित परिषदीय विद्यालयों में चयनित 31277 सहायक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र का वितरण कार्यक्रम का लखनऊ से डिजिटली शुभारंभ किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने वाराणसी की नवनियुक्त शिक्षिका रिशा कुमारी से संवाद भी किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि माता जगदंबा का पावन पर्व नवरात्रि को शनिवार से शुरू होने से एक दिन पूर्व नियुक्ति पत्र दिया जा रहा है कि महिलाओं के रूप में साक्षात देवी खुश रहें। मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत 3.5 वर्षों में बेसिक शिक्षा के क्षेत्र में अमूल परिवर्तन हुआ है। उन्होंने नवनियुक्त शिक्षकों से शासन की मंशा के अनुरूप बेसिक शिक्षा में आमूलचूल परिवर्तन के उद्देश्य के अनुरूप अपने कर्तव्यों का ईमानदारी के साथ निर्वहन करने और बच्चों को शिक्षा दिए जाने का वायदा भी लिया। उन्होंने कहा कि प्राथमिक विद्यालयों द्वारा बच्चों में शिक्षा की नींव रखी जाती है। बच्चों का नींव मजबूत होगा तो वे जीवन में सफल होंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि उत्तर प्रदेश के 159000 प्राथमिक विद्यालयों में कायाकल्प कार्यक्रम योजना लागू है तथा 50,000 से अधिक विद्यालयों का कायाकल्प हो भी चुका है। प्राथमिक विद्यालयों में सभी बुनियादी सुविधाओ उपलब्धता सुनिश्चित करा दी गई है तथा ऑनलाइन कक्षाएं भी संचालित की जा रही है। प्राथमिक विद्यालयों में भ्रष्टाचार मुक्त व्यवस्था के लिए डिजिटली व्यवस्था लागू की गई है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में बिना किसी भेदभाव के पूरी पारदर्शिता के साथ लोगो को नौकरी मिल रही है। जिसमे कोई जातिवाद, भाई- भतीजावाद, क्षेत्रवाद व भ्रष्टाचार नहीं है। योग्यता व दक्षता का कहीं भी उपेक्षा नहीं होना चाहिए। वाराणसी में नियुक्ति पत्र वितरण के दौरान भाजपा काशी क्षेत्र के अध्यक्ष महेश चंद्र श्रीवास्तव पिंडरा विधायक डॉ अवधेश सिंह, विधायक रोहनिया सुरेंद्र नारायण सिंह, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा भी उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/दीपक-hindusthansamachar.in