वंदेमातरम राष्ट्रगीत के सम्मान में शहनाई के धुन से शहीदों को दी कलाकारों ने श्रद्धांजलि
वंदेमातरम राष्ट्रगीत के सम्मान में शहनाई के धुन से शहीदों को दी कलाकारों ने श्रद्धांजलि
उत्तर-प्रदेश

वंदेमातरम राष्ट्रगीत के सम्मान में शहनाई के धुन से शहीदों को दी कलाकारों ने श्रद्धांजलि

news

वाराणसी,07 सितम्बर (हि.स.)। स्वतंत्रता सेनानी बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा रचित बंदेमातरम गीत को शहनाई की धुन में प्रस्तुत कर सोमवार को शहीदों को नमन किया गया। सात सितम्बर 1905 को काशी में कांग्रेस के अधिवेशन में पहली बार इसका गायन हुआ था। गीत के सम्मान में लगातार 16वें वर्ष सिगरा स्थित भारत माता मंदिर परिसर में जुटे श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के शहनाई वादक महेन्द्र प्रसन्ना और उनके साथियों ने भारतमाता के अमर सपूतों को नमन कर शहनाई के द्वारा वंदेमातरम, ऐ मेरे वतन के लोगों, कर चले हम फिदा आदि गीतों की धुन बजा कर श्रद्धांसुमन अर्पित किया। इसमें शहनाई वादक दुर्गा प्रसन्ना,बासुरी पर संगम प्रसन्ना,तबले पर कृष्ण कुमार,सत्यनारायण,दुक्कड़ पर केदारनाथ ने सहयोग दिया। इस दौरान श्री काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत परिवार के कुमार महाराज,अजय सिंह,शनि उपासक कन्हैया,शिव नारायण पांडेय,अंकित बेनवंशी,बृजेश गुप्ता आदि मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/राजेश-hindusthansamachar.in