लाइनलॉस 15 प्रतिशत से नीचे लाएं 24 घंटे निर्बाध व सस्ती बिजली पाएं : श्रीकान्त शर्मा
लाइनलॉस 15 प्रतिशत से नीचे लाएं 24 घंटे निर्बाध व सस्ती बिजली पाएं : श्रीकान्त शर्मा
उत्तर-प्रदेश

लाइनलॉस 15 प्रतिशत से नीचे लाएं 24 घंटे निर्बाध व सस्ती बिजली पाएं : श्रीकान्त शर्मा

news

- ऊर्जा मंत्री ने की हाई लाइनलॉस फीडर्स वाले क्षेत्रों के उपकेंद्रों की समीक्षा -जन सहयोग व जन प्रतिनिधियों की मदद से बिजली चोरी पर लगाम के दिए निर्देश -उपभोक्ताओं को मिले सही बिल-समय पर बिल लखनऊ, 15 सितम्बर (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री पंडित श्रीकान्त शर्मा ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये जिलों के हाई लाइन लॉस वाले शहरी व ग्रामीण उपकेंद्रों की समीक्षा की। उन्होंने हाई लॉस वाले उपकेंद्रों को रेड कैटेगरी से ग्रीन कैटेगरी में लाने और सस्ती व निर्बाध बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। इस कार्य में लापरवाही पाये जाने पर जवाबदेही तय की जाये। यूपीपीसीएल चेयरमैन को इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए लगातार मॉनिटरिंग करने का निर्देश भी दिया। ऊर्जा मंत्री ने रायबरेली के रोहनिया व इंदिरा नगर, शाहजहांपुर के मीरानपुर कटरा व काकरा, श्रावस्ती के भंगहा व इकौना, सीतापुर के मछरेहटा व ओल्ड सीतापुर, सुल्तानपुर के अलीपुर व कैम्पबूथ, उन्नाव के कालूखेड़ा व पीडी नगर हाई लॉस उपकेंद्रों की समीक्षा की। उन्होंने हाई लाइनलॉस फीडर्स वाले विद्युत उपकेंद्रों को रेड कैटेगरी से ग्रीन कैटेगरी में लाने और सस्ती बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। श्रीकान्त शर्मा ने कहा कि अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि सभी उपभोक्ताओं को सही बिल मिले और समय पर मिले। साथ ही सभी चिह्नित उपकेंद्रों की लाइन हानियों को 15 प्रतिशत से नीचे ले आएं। जिससे सस्ती, पर्याप्त और निर्बाध विद्युत आपूर्ति का संकल्प पूरा करने में आसानी हो। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि लाइन लॉस कम करने के लिये बिजली चोरी पर रोक लगना और समय पर बिल जमा करना बेहद जरूरी है। इसलिए यह संकल्प जन सहयोग से ही पूरा हो सकता है। इसके लिये स्थानीय जन प्रतिनिधियों का सहयोग लेकर आमजन को प्रेरित करें। उन्होंने निर्देशित किया कि ईमानदार उपभोक्ता ही हमारी सबसे बड़ी शक्ति है। उन्हें सही बिल व समय पर बिल मिले। अधिक बिल आने की शिकायतों को गंभीरता से लें, उनका समाधान करें और उपभोक्ता को संतुष्ट करें। उपभोक्ता को गलत बिल मिला है तो संबंधित क्षेत्र की बिलिंग एजेंसी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायें। ईमानदार उपभोक्ता परेशान नहीं होना चाहिए। अधिकारियों का व्यवहार भी उपभोक्ताओं से मधुर हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि अधिकारी उपभोक्ताओं के मोबाइल नंबर भी अपने पास रखें। उनसे सुविधाओं के बारे में फीडबैक भी लें और उन पर काम करें। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि 60 दिन के भीतर सभी चिह्नित किये गए फीडरों पर लाइन लॉस 15 प्रतिशत से नीचे लेकर आना है। उपकेंद्र आत्मनिर्भर बनेंगे तभी कॉर्पोरेशन को आत्मनिर्भर बनाया जा सकेगा। हिन्दुस्थान समाचार/पीएन द्विवेदी-hindusthansamachar.in